बावल कृषि कॉलेज में बढ़ेंगी सुविधाएं:सीनियर ब्वायज व गर्ल्स के लिए भी बनेगा अलग-अलग हॉस्टल

रेवाड़ी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फिलहाल एक-एक हॉस्टल बनाए गए, अगले 4 माह में बन जाएंगे डिजिटल लाइब्रेरी और एग्जामिनेशन हॉल - Dainik Bhaskar
फिलहाल एक-एक हॉस्टल बनाए गए, अगले 4 माह में बन जाएंगे डिजिटल लाइब्रेरी और एग्जामिनेशन हॉल

जिला के एकमात्र कृषि कॉलेज बावल में सीनियर ब्वायज और गर्ल्स के लिए भी अलग-अलग हॉस्टल तैयार किए जाएंगे। इसके लिए जल्द ही प्रक्रिया शुरू होगी। फिलहाल कॉलेज में एक-एक हॉस्टल ब्वायज और गर्ल्स के अलग-अलग बनाए हुए हैं। इन हॉस्टल की क्षमता लड़कों की 250 और लड़कियों की 55 हैं।

ये हॉस्टल बनने से इनमें प्रत्येक कमरे में तीन-तीन विद्यार्थी ठहर सकते हैं। इधर, कॉलेजों में ऑफलाइन पढ़ाई भी शुरू हो चुकी है। कॉलेज के प्राचार्य डॉ. नरेश कौशिक ने बताया कि अभी कॉलेज में 6 वर्षीय पाठ्यक्रम की ही कक्षाएं लग रही है। नए सत्र की ऑफलाइन कक्षाएं शुरू हो गई है। इसके अलावा परीक्षाएं भी चल रही हैं।

कॉलेज के प्राचार्य डॉ. नरेश कौशिक ने बताया कि स्टूडेंट के लिए आधुनिक लाइब्रेरी बनाई जा रही है। इस पुस्तकालय में एक साथ 250 विद्यार्थी बैठकर पढ़ाई कर सकेंगे। खास बात रहेगी कि इसमें ऑनलाइन भी स्टडी मैटेरियल उपलब्ध होगा। विद्यार्थी ऑनलाइन कोई भी किताब पढ़ सकते हैं। इसके अलावा इसमें बुक बैंक भी बनाया जाएगा। इस बुक बैंक से विद्यार्थी अपने कोर्स से संबंधित पाठ्यपुस्तकें लेकर पढ़ सकते हैं।

एग्जामिनेशन हॉल

अभी कॉलेज में ऐसा स्थान नहीं है, जहां पर कोई प्रतियोगी परीक्षा देने के लिए एक साथ काफी संख्या में विद्यार्थी बैठ सके। इसलिए एग्जामिनेशन हॉल भी बनाया जा रहा है। ये हॉल बनने पर इसमें एक साथ लगभग 250 विद्यार्थी बैठकर परीक्षा दे सकते हैं। यह हॉल अगले 4 माह में बनकर तैयार हो जाएगा।

खबरें और भी हैं...