पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Rohtak
  • Rewari
  • Some Invoices And Some Items Were Seized By Giving Instructions, The Team Took Action With The Police Force, Instructed Do Not Get Disturbed During The Festive Season

नप टीम आगे-आगे पीछे-पीछे अतिक्रमण:हिदायत देकर कुछ चालान और थोड़ा सा सामान जब्त, टीम ने पुलिसबल साथ लेकर की कार्रवाई, हिदायत- त्योहारी सीजन में परेशानी नहीं हो

रेवाड़ी8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

दीपोत्सव सीजन शुरू होते ही बाजार में रौनक बढ़ने के साथ ही अतिक्रमण भी बढ़ना शुरू हो गया है। प्रशासन के पास बाजार में अतिक्रमण और जाम की शिकायतें पहुंची तो आखिर नगर परिषद की टीम बाजार में निकली। पुलिसबल साथ लेकर निकली टीम ने अतिक्रमणकारियों को हिदायत दी। शाम 5 बजे बाद शुरू हुई इस कार्रवाई के दौरान कुछ लोगों के चालान भी किए तथा कुछ सामान जब्त करने की कार्रवाई भी हुई।

हालांकि टीम की बाजार में मौजूदगी तक काफी दुकानदारों ने अपना सामान समेटे रखा, मगर कुछ ने अतिक्रमण की पुरानी परंपरा बनाए रखी। पुरानी सब्जी मंडी से मोती चौक की तरफ टीम बढ़ी तो अतिक्रमण हटता नजर आया, मगर जैसे ही टीम ने गोकलगेट पार किया तो पीछे बाजार में फिर से दुकानों का सामान सड़क पर ही जमता नजर आया।

प्रशासन ध्यान दे...जाम में सोशल डिस्टेंसिंग गायब
समस्या ये है कि कई दुकानों के आगे तो 10 से 12 फीट तक भी कब्जा जमा लिया जाता है। इससे दोनों तरफ से रोड पर दुकानों का सामान रखे होने के चलते बाजार सिकुड़ा और जाम लगा नजर आता है। कोरोना के समय में मास्क और दो गज की दूरी (सोशल डिस्टेंसिंग) ही वायरस से बचा सकती है। मगर जाम के चलते दो गज की दूरी संभव ही नहीं है। इससे संक्रमण फैलने का भी डर है।

बड़ी समस्या...दिन में लोडिंग वाहन लगा रहे जाम
अतिक्रमण से पहले ही बाजार में कई जगह सड़कें संकरी हो जाती है। उस पर लोडिंग वाहन बड़ी समस्या बन रहे हैं। ये वाहन सुबह से शाम तक बाजार में खरीददारी के समय ही घुसे रहते हैं। माल लाने या सप्लाई के लिए इनका प्रवेश होता है। मगर इनसे बाजार में अक्सर जाम लगा रहता है। कम से कम त्योहारी सीजन तक वाहनों के आवागमन पर पाबंदी लगना बेहद जरूरी है।

सुझाव... त्योहारी सीजन में सुबह या शाम मंगाए माल : पहले प्रशासन त्योहारी सीजन में लोडिंग वाहनों और कार-ऑटो को लेकर व्यवस्था बनाता रहा है। वही व्यवस्था दीपोत्सव के इस सीजन में लागू हो तो लोग परेशानी से बचेंगे। माल मंगाने और भेजने के लिए समय तय होना चाहिए। सुबह 10 बजे से पहले और शाम को 7-8 बजे के बाद माल मंगाने या भेजने का नियम हो तो काफी परेशानी कम हो सकती है।

खबरें और भी हैं...