• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Rohtak
  • Rewari
  • Somewhere After Eating Chickpeas, They Used To Send A Fake Message Of Payment, Then Sent An Edit Message With Goods Worth Rs 40, The Four Accused Were Caught Cheating 5 Times With The Same Shopkeeper.

खरीदारी कर पेमेंट का फर्जी मैसेज भेजने वाला गैंग काबू:ऑनलाइन पैसे भेजने का एडिट मैसेज भेजकर करते थे ठगी, एक ही दुकानदार के साथ 5 बार ठगी करने पर पकड़े गए

रेवाड़ीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आरोपियों को लेकर जाती धारूहेड़ा थाना पुलिस। - Dainik Bhaskar
आरोपियों को लेकर जाती धारूहेड़ा थाना पुलिस।

हरियाणा के रेवाड़ी में पुलिस ने ठगी करने वाले एक ऐसे गिरोह को पकड़ा है, जिसके सदस्य कहीं रेस्टोरेंट में छोले-भटूरे खाकर पेमेंट का फर्जी मैसेज भेज देते, तो कहीं दुकान पर सामान लेकर उसी मैसेज को एडिट कर ट्रांजेक्शन दिखा देते। आरोपी दुकानदार के ही मोबाइल पर पैसे ट्रांसफर का मैसेज खुद के मोबाइल नंबर से सेंड कर देते थे। 10 रुपए से लेकर 100 रुपए तक की ठगी करने वाला यह गैंग उस वक्त निगरानी में आया, जब उन्होंने एक ही दुकानदार के साथ कुछ माह के भीतर 5 बार ठगी की। वे हर बार दुकानदार के मोबाइल नंबर पर खुद ही पेमेंट का मेसैज भेज देते थे। दुकानदार जब बैंक स्टेटमेंट निकलवाकर लाया तो उसे ठगी का पता चला। उसने आरोपियों के बारे में पूरी जानकारी जुटाई और फिर 28 अगस्त को धारूहेड़ा थाना में केस दर्ज करा दिया। धारूहेड़ा थाना पुलिस ने मामले में कार्रवाई करते हुए चार आरोपियों को काबू किया है। तीन आरोपी राजस्थान के भिवाड़ी के रहने वाले है, जबकि एक आरोपी गुरुग्राम के सोहना का रहने वाला है। पुलिस आरोपियों से लगातार पूछताछ कर रही है।

दरअसल, गांव भटसाना के रहने वाले पिशोरी लाल ने ओद्योगिक क्षेत्र धारूहेड़ा में मेहंदीरता जरनल स्टोर खोला हुआ है। पिशोरी लाल के अनुसार पहली बार इनमें शामिल युवक 8 जून 2021 को उनकी दुकान पर पहुंचा था। युवक ने उस वक्त करीब 1 हजार रुपए का सामान खरीदा और फिर दुकान की टेबल पर रखे बारकोड को स्कैन किया, लेकिन पेमेंट दुकानदार के खाते में डालने की बजाए उसने एक फर्जी मैसेज दुकानदार के नंबर पर ही सेंड कर दिया। पिशोरी लाल ने अपना मोबाइल चेक किया तो उसमें एक हजार रुपए का मैसेज आया था, लेकिन उसने यह नहीं देखा कि मैसेज बैंक से नहीं, बल्कि किसी पर्सनल नंबर से आया है। इसी प्रकार आरोपी कई बार उससे सामान लेकर गए।

दुकानदार को ऐसे चला धोखाधड़ी का पता

आखिरी बार अगस्त में आरोपी पिशोरी की दुकान पर पहुंचकर 40 रुपए का सामान लेकर गए और फिर पहले ही तरह पेमेंट का फर्जी मैसेज भेजकर फरार हो गए। काफी दिन हो जाने के कारण ऑनलाइन पेमेंट से जुड़े खाते की स्टेटमेंट निकलवाने पहुंचे पिशोरी लाल ने चेक किया तो उसमें कुछ हजार रुपए ही मिले। आरोपी युवक उससे 61 हजार 450 रुपए का सामान लेकर फर्जी मैसेज भेज चुके थे। उसके बाद पिशोरी को शक हुआ। उसके पास एक अहम सबूत वो मोबाइल नंबर था, जिससे आरोपी पेमेंट का मैसेज भेजते थे। ठगी का पता चलते ही 28 अगस्त को पिशोरी लाल ने धारूहेड़ा थाना में शिकायत दी। पुलिस ने पिशोरी लाल द्वारा दिए गए मोबाइल नंबर के आधार पर ही आरोपियों को सोमवार को धर दबोचा।

काफी समय से दुकानदारों के साथ ठगी कर रहे थे आरोपी

आरोपियों से पूछताछ की तो पता चला कि वह काफी समय से दुकानदारों के साथ इसी प्रकार की ठगी करते आ रहे थे। हालांकि छोटी-छोटी ठगी होने के कारण किसी ने भी पुलिस तक शिकायत नहीं दी, लेकिन पिशोरी के साथ हुई 61 हजार की ठगी के मामले में केस दर्ज हुआ है। पुलिस आरोपियों से पूछताछ कर रही हैं। आरोपियों से साढ़े 11 हजार रुपए भी बरामद किए गए हैं।

छोटे दुकानदार रहते थे निशाने पर

धारूहेड़ा थाना प्रभारी मनोज कुमार ने बताया कि 4 में से 3 आरोपी राजस्थान के अलवर जिले के भिवाड़ी एरिया के रहने वाले हैं, जबकि एक आरोपी सोहना का रहने वाला है। चारों युवक छोटे-छोटे वेंडर या दुकानदारों के साथ काफी बार ठगी कर चुके हैं, जिनमें किसी की दुकान पर गोलगप्पे तो किसी पर छोले भटूरे खाये या फिर किसी की दुकान से सामान खरीदकर उन्हें पेमेंट का फर्जी मैसेज भेजते थे। आरोपियों ने एक मैसेज तैयार किया हुआ था, जिसके भी साथ ठगी करते उसी प्रकार मैसेज में पैसे एड कर एडिट किया हुआ मैसेज भेज देते थे। खासतौर पर पिशोरी लाल के पास खुद के मोबाइल नंबर से ही उन्हें पेमेंट का फर्जी मैसेज भेजा गया। उसी आधार पर चारों आरोपियों को काबू किया गया हैं।

खबरें और भी हैं...