• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Rohtak
  • Rewari
  • The Councilor Said – The City Is Full Of Problems, After 8 Months, The Meeting Is Being Held, Due To Lack Of Work, The Public Is Standing With Slippers

नप हाउस की बैठक:पार्षद बोले- शहर में समस्याओं की भरमार, बैठक 8 माह बाद कर रहे हो, काम ना होने से जनता चप्पल लिए खड़ी है

रेवाड़ी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बैठक में ईओ से शहर के मुद्दों पर सवाल पूछते विधायक चिरंजीव राव। - Dainik Bhaskar
बैठक में ईओ से शहर के मुद्दों पर सवाल पूछते विधायक चिरंजीव राव।
  • पहली बार पहुंचे विधायक चिरंजीव ने पूछे सवाल; महिला पार्षदों के प्रतिनिधियों के मीटिंग से बाहर जाने की बात पर हुआ खूब हंगामा

8 माह के लंबे इंतजार के बाद बुधवार को हुई शहर की सरकार नगर परिषद हाउस की बैठक हंगामेदार रही। पहली बार रेवाड़ी विधायक चिरंजीव राव भी नप की बैठक में शामिल हुए। नगर परिषद सभागार में दोपहर बाद 3 बजे शुरू हुई यह बैठक 3 घंटे तक चली। इसकी शुरुआत ही हंगामे के साथ हुई।

महिला पार्षदों के प्रतिनिधियों के मीटिंग से बाहर जाने की बात पर खूब नोकझोंक हुई। पार्षद दलीप माटा ने प्रतिनिधियों के बाहर होने की बात कही तो उनके साथ पूर्व प्रधान एवं मौजूदा पार्षद विजय राव, पार्षद प्रतिनिधि दीपक सैनी व मोनू राव की जमकर बहस हुई।

माहौल बिगड़ता देख नप ईओ अभे सिंह यादव ने चेतावनी देते हुए कहा कि सदन में बाहरी आदमी को हंगामा की अनुमति नहीं। यदि व्यवस्था बिगाड़ी तो कानूनी कार्रवाई की जा सकती है। अधिकारियों और बाकी पार्षदों के दखल के बाद मामला संभला। 8 माह के लंबे अंतराल के बाद बैठक बुलाने से पार्षदों में खासी नाराजगी नजर आई।

वार्ड-3 से पार्षद प्रवीन चौधरी ने कहा कि शहर में अतिक्रमण, गंदगी, बेसहारा गोवंश और आवारा कुत्तों की भरमार है, मगर हाउस की बैठक 8 माह बाद बुलाई जा रही है। उन्होंने कहा कि टेंडर पर टेंडर की बात की जा रही, मगर धरातल पर काम शुरू हो नहीं रहे। टेंडर क्या कागजों में हो रहे हैं। कोविड-कोविड करते रहेंगे तो 5 साल निकल जाएंगे। वार्डों में जनता चप्पल लिए खड़ी है।

पूर्व मंत्री का जिक्र करने पर मचा शोर

विधायक चिरंजीव राव ने बैठक के दौरान नगर परिषद की कार्यशैली पर सवाल उठाए तो उप प्रधान श्याम सुंदर चुघ ने माइक लेकर कहा कि विधायक जी आपके पिता कैप्टन अजय सिंह यादव 30 साल सत्ता में रहे...। चुघ के बात पूरी करने से पहले ही राजनीतिक बात करने पर शोर मच गया। आखिर बात यहीं खत्म कर दी गई।

विधायक चिरंजीव बोले- मॉनसून गया, अब भी शहर बदहाल क्यों है?

विधायक चिरंजीव राव ने कहा कि पार्षद मुद्दा उठा रहे हैं कि 8 माह में एक बैठक होगी तो बात कैसे होगी। सदन की बैठकों से शहर का विकास होता है। विधायक ने सवाल उठाए कि पूरा मॉनसून जा चुका है, अब भी शहर बदहाल है। अतिक्रमण अभियान चलाया गया तो उसका परिणाम क्या रहा? आज भी सड़कें अतिक्रमण से अटी हैं।

करोड़ों की सफाई मशीन खरीदी, वो क्या काम आ रही है? ईओ ने कहा कि हमने 15 दिन अतिक्रमण अभियान चलाया है, आगे भी शुरू करेंगे। हमने 30 में से 20 डंपिंग यार्ड शहर से हटा दिए हैं। सफाई मशीन रात को काम में लगी रहती है, चाहे तो सीसीटीवी फुटेज ले सकते हैं। विधायक ने कहा कि सफाई हो रही है तो इतनी गंदगी कहां से आ रही?

ईओ ने कहा कि यह रूटीन प्रोसेस है, घरों से कचरा निकलता है, हम उठवाते हैं। विधायक ने कहा कि सड़क पर पशु भी रूटीन प्रोसेस है क्या? बिना पूरे गोवंश को गोशाला भेजे स्ट्रे कैटल फ्री सिटी पर भी सवाल उठाए। मनोनीत विधायक धीरज शर्मा द्वारा शहर में व्यापारियों की सुरक्षा के लिए सीसीटीवी लगवाने की बात का विधायक ने समर्थन किया। ट्रैफिक लाइट शुरू करने की बात कही।

मनोनीत 3 पार्षदों ने ली पद व गोपनीयता की शपथ

नगर परिषद हाउस की बैठक के दौरान 3 मनोनीत पार्षदों को भी शपथ दिलाई गई। हाल ही में मोहल्ला मुफ्तीवाड़ा निवासी रोहतास वाल्मीकि, वार्ड 15 से भाड़ावास गेट निवासी दीपक अग्रवाल व बास सिताब राय से धीरज शर्मा को पार्षद मनोनीत किया गया था। तीनों ने ही अपने मनोनयन के बाद पहली हाउस बैठक में उपस्थिति दर्ज कराई। यहां शहर के मुद्दे भी उठाए।

नई पाइप लाइनों की डिमांड, जवाब- अमरूत-2 समाधान

पार्षदों ने पानी की समस्याएं तथा नई लाइनों की जरूरत बताई। कृष्ण गोपाल, रेखा यादव, मनीष गुप्ता, भूपेंद्र गुप्ता सहित अन्य पार्षदों ने नई लाइन डालने की बात कही। इस पर एक्सईएन ने बताया कि आज ही मुख्यालय से मैसेज आया है कि अक्टूबर से अमरूत योजना-2 की शुरूआत हो रही है। नई लाइनें उसी में डाली जाएंगी तथा समाधान होगा।

स्ट्रे कैटल... 3 दिन बाद गोवंश को गोशाला भेजना शुरू कर देंगे

एक्सईएन हेमंत कुमार ने कहा कि हम 3 दिन बाद गोवंश को गोशाला में भेजना शुरू कर देंगे। इसके लिए टेंडर प्रक्रिया कर दी गई है। महीनेभर में सड़कों पर बेसहारा पशु इतने नजर नहीं आएंगे। देरी इसलिए हुई, क्योंकि पहले एक ठेकेदार ने काम शुरू नहीं किया। उसकी सिक्योरिटी राशि जब्त कर ली गई है। अब 3 बिड़ आई तो काम शुरू करने जा रहे हैं। ट्रैफिक लाइट भी 15 दिन में मरम्मत कर चालू कर देंगे।

खबरें और भी हैं...