पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सौदेबाजी पर लगाम:एडवांस लाइफ सपोर्ट एंबुलेंस का किराया 15 रुपए प्रति किलोमीटर व बेसिक एंबुलेंस का 7 रुपए तय किया

रेवाड़ी12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • अधिक किराया वसूलने पर लाइसेंस व एंबुलेंस पंजीकरण होगा निरस्त
  • एंबुलेंस चालकों द्वारा मनमर्जी तरीके से वसूली जा रही थी राशि
  • इधर, तय किराये पर आपत्ति भी, 8 रुपए का डीजल खर्च हो रहा

कोरोना काल में लोगों की मजबूरी का फायदा उठाकर मनमर्जी तरीके से वसूले जा रहे एंबुलेंस किराये पर प्रशासन ने लगाम लगा दी है। जिलाधीश यशेन्द्र सिंह के आदेश बाद कोरोना महामारी के दौरान कोविड-19 मरीजों के लिए एंबुलेंस के इस्तेमाल के लिए किराया निर्धारित कर दिया गया है।

इसके लिए जिला राजस्व अधिकारी की अध्यक्षता में जिला परिवहन अधिकारी, जीएम हरियाणा रोडवेज, डॉ. राजबीर की एक कमेटी गठित की गई थी। इस कमेटी ने सरकार के मापदंडों को आधार बताते हुए एंबुलेंस का किराया निर्धारित किया है। सरकार द्वारा एडवांस लाईफ सपोर्ट एंबुलेंस का किराया 15 रुपए प्रति किलोमीटर तथा बेसिक लाईफ सपोर्ट एंबुलेंस का किराया 7 रुपए प्रति किलोमीटर निर्धारित किया गया है।

यदि कोई एंबुलेंस चालक व मालिक सरकार द्वारा निर्धारित दर से अधिक किराया वसूलता है तो मालिक व चालक के विरूद्घ कार्यवाही अमल में लाई जाएगी। इसके तहत ड्राईवर का लाईसेंस निरस्त करना, एंबुलेंस का पंजीकरण निरस्त करना, एंबुलेंस को सरकारी कब्जे में लेने के अलावा कम से कम 50 हजार रुपए जुर्माना वसूल किया जाएगा।

यहां करें शिकायत

प्रशासन ने एंबुलेंस के किराये को नियंत्रित करने के लिए शिकायत दर्ज कराने के लिए भी व्यवस्था की है। कोई भी व्यक्ति इस बारे में अपनी शिकायत टोल फ्री नंबर 1950 पर एंबुलेंस के नंबर के साथ पूर्ण विवरण सहित दर्ज करवा सकते हैं। अधिकारियों की टीम इस पर कार्रवाई करेगी।

रेट निर्धारण में हैं खामियां- 8 रुपए का डीजल लग रहा

भारतीय वायुसेना के मैकेनिकल ट्रांसपोर्ट ऑफिसर सेवानिवृत्त जूनियर वारंट ऑफिसर जीएस अग्रवाल ने सरकारी स्तर पर किया गया एंबुलेंस के किराये के निर्धारण में खामियां बताई हैं। कहा कि ऐसा लगता है सरकार ने आनन फानन में ये रेट जारी किए हैं, जो एम्बुलेंस चालकों के साथ न्याय नहीं है। उन्होंने बताया कि आम वाहन भी 12 रुपये प्रति किलोमीटर की दर से किराया वसूलता है।

हरियाणा में पेट्रोल 89 रुपए ओर डीजल 81 रुपए के आसपास है। एम्बुलेंस गाड़ी लगभग 10 किलोमीटर प्रति लीटर की एवरेज देती है। इस प्रकार 8 रुपये प्रति किलोमीटर तो सिर्फ तेल का खर्च है। चालक की मजदूरी, गाड़ी की सर्विस व गाड़ी के अन्य खर्चे अलग है। इस कोरोना महामारी में एम्बुलेंस चालक अपनी जान जोखिम में डाल कर जनता की सेवा कर रहा है, वो कैसे 7 रुपये प्रति किलोमीटर में एम्बुलेंस चला पाएगा।

जिस जीवन रक्षक गाड़ी का किराया 15 रुपये किलोमीटर किया है, उस चालक से पूछिये जो रोजाना 500 रुपये खर्च कर पीपीई किट पहनता है, उसको लाइन में लग कर ऑक्सीजन सिलेंडर लेने जाना पड़ता है जो अब मिल भी नहीं रहे। वेंटिलेटर वाली एम्बुलेंस के लिए निजी अस्पतालों से स्टाफ हायर करना पड़ता है, गाड़ी की रोजाना धुलाई व सेनिटाइज करानी पड़ रही है तथा गाड़ी की किस्त भी भरनी पड़ती है।

स्टाफ भी नहीं मिल पाता

आज कोरोना काल मे स्टाफ भी बड़ी मुश्किल से मिल रहा है, ऐसे में एम्बुलेंस चालक क्या करें। माना कि कुछ एम्बुलेंस चालक नाजायज भी कर रहे हैं, मगर सरकार को पुनर्विचार कर किराया बढ़ाना चाहिए।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- समय अनुसार अपने प्रयासों को अंजाम देते रहें। उचित परिणाम हासिल होंगे। युवा वर्ग अपने लक्ष्य के प्रति ध्यान केंद्रित रखें। समय अनुकूल है इसका भरपूर सदुपयोग करें। कुछ समय अध्यात्म में व्यतीत कर...

    और पढ़ें