प्रशासन ने की सख्त कार्रवाई:शासन-प्रशासन काे शिकायत भेजी ताे नाबालिग अनाथ बहनों की पेंशन की प्रक्रिया हुई शुरू

रेवाड़ी11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • माता-पिता की मौत के बाद नहीं था कोई सहारा, पेंशन के लिए काट रही थी चक्कर

गांव डहीना निवासी दो नाबालिग बहनें माता-पिता की मौत के बाद पेंशन बनवाने के लिए लंबे समय से कार्यालयों के चक्कर काट रही थी। लेकिन उनकी पेंशन नहीं बन सकी। इसके बाद एडवोकेट कैलाशचंद ने उनका सहयोग किया और उच्च स्तर पर शिकायत भेजी। इसके बाद आनन-फानन में पेंशन बनाने के निर्देश जारी हो गए। एडवोकेट कैलाश ने बताया कि इनके पिता का वर्ष 2016 में निधन हो गया था। इसके बाद वर्ष 2021 में माता भी कोविड महामारी के कारण चल बसी। तब से दोनों बहनें अपनी पेंशन बनवाने के लिए सरकारी कार्यालयों के चक्कर लगा रही है, परन्तु उनकी पेंशन नहीं बन पाई।

उनको जब इसका पता लगा तो उन्होंने मुख्यमंत्री, समाज कल्याण विभाग के मंत्री व डायरेक्टर, जिला उपायुक्त, अतिरिक्त जिला उपायुक्त, जिला समाज कल्याण अधिकारी को ईमेल से शिकायत भेजी। साथ ही उपायुक्त रेवाड़ी से भी पेंशन को लेकर मिले। उपायुक्त ने पेंशन बनवाने के लिए आदेश किए, जिस पर समाज कल्याण अधिकारी ने पेंशन बनाने की बात कही और उसकी रसीद भी दे दी गई। समाज कल्याण विभाग ने मार्च महीने में पेंशन पहुंचने की भी बात कही है।

खबरें और भी हैं...