टोल बंदी:कर्मी टोल चालू कराने को सड़क पर उतरे, किसान मोर्चा भी कर्मियों के वेतन के लिए आवाज उठाने लगा

रेवाड़ी10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • 11वें दिन भी बंद रहा टोल प्लाजा, किसान संगठनों का धरना जारी

रोजी-रोटी के संकट का हवाला देकर टोल प्लाजा खुलवाने के लिए सड़क पर उतरे कर्मचारियों का टोल बंदी का विरोध जारी है। लेकिन संयुक्त किसान मोर्चा खुद को कर्मचारियों के हित में बताते हुए खुद भी कर्मियों का वेतन दिए जाने की आवाज उठा रहा है। टोल प्लाजा पर टोल कर्मचारियों के समर्थन में जुलूस किया और मांग की कि उन्हें पिछले 3 माह का बकाया वेतन दिया जाए और नौकरी से नहीं हटाया जाए।

हर रोज 18 लाख की प्लाजा पर वसूली करने वाला गांगाचा टोल पर कर्मचारियों को लिए वेतन नहीं है यह अजीब बात है। कॉमरेड राजेंद्र ने इसे मानव अधिकारों का हनन बताया एवं मानव अधिकार आयोग देहली से अपील की है कि वेतन दिलाया जाए।

10 अक्टूबर को कोसली में होगी महापंचायत

संयुक्त किसान मोर्चा रेवाड़ी के तत्वावधान में 11 वें दिन भी टोल प्लाजा को फ्री रखा गया। 10 अक्टूबर को कोसली में किसान मजदूरों की महापंचायत कोसली अनाज मंडी में होगी। गुरुवार को संयुक्त किसान मोर्चा के घटक संगठन आल इंडिया किसान खेत मजदूर संगठन, भारतीय किसान यूनियन, भारतीय किसान यूनियन चढूनी, जय किसान आंदोलन, किसान विकास परिषद, गंगायचा टोल प्लाजा मोर्चा के प्रतिनिधियों की बैठक कॉमरेड राजेंद्र सिंह एडवोकेट अध्यक्षता व टाइगर जोगिंदर प्रधान के संचालन में हुई।

उन्होंने कहा कि संयुक्त किसान मोर्चा जिला के प्रत्येक गांव से 5 से 10 वॉलंटियर जोड़ रहा है और 8 अक्टूबर से वॉलंटियर की शुरूआत टोल प्लाजा से होगी। बैठक में किसान नेता समय सिंह, कुलदीप बुढपुर, रामकुमार विजय, मास्टर धर्म सिंह, अशोक मूसेपुर, महावीर रोहडाई, सभाचंद रोझुवास, कमल यादव पाल्हावास, सतपाल, पृथ्वी सिंह, सुनील एडवोकेट आदि ने विचार रखे।

खबरें और भी हैं...