रिपोर्ट:भिवाड़ी से आने वाले दूषित पानी को लेकर आज अफसरों की टीम सर्वे कर सौंपेगी रिपोर्ट

रेवाड़ीएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • डीसी ने सौंपी जिम्मेदारी, बोले- धारूहेड़ा में जलनिकासी की व्यवस्था करें

राजस्थान क्षेत्र से धारूहेड़ा में आ रहे दूषित पानी को लेकर प्रशासन ने गंभीरता दिखाई है। अब इस दिशा में तेजी से काम करने का दावा है। डीसी यशेन्द्र सिंह ने मंगलवार को धारूहेड़ा में बरसाती पानी की तत्काल निकासी और मसानी बैराज के आस- पास एकत्रित हुए पानी के निकासी के स्थायी समाधान करने के लिए अधिकारियों के साथ बैठक की। डीसी ने धारूहेड़ा में बरसाती जल भराव की समस्या और मसानी बैराज के आस-पास एकत्रित हो रहे जल की निकासी के लिए तकनीकी अधिकारियों की टीम गठित करने के निर्देश देते हुए 8 जुलाई बुधवार तक रिपोर्ट दें। इसके लिए अधीक्षक अभियंता सिंचाई विभाग रविंद्र पाल की अध्यक्षता में जन स्वास्थ्य, नगरपालिका धारूहेड़ा, एचएसवीपी और प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अधिकारियों की टीम गठित की गई है। डीसी ने कहा कि जलजनित बीमारियों की रोकथाम हर हाल में करनी होगी। इसके लिए यहीं उपाय है कि बरसात के पानी का ठहराव न होने दें। मसानी बैराज के आस-पास एकत्रित हो रहे प्रदूषित जल की निकासी का स्थायी समाधान पर्यावरण संतुलन के लिए जरूरी है। आरओ प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड कमलजीत सिंह ने बताया कि भिवाड़ी राजस्थान से प्रदूषित जल आ रहा है। केंद्र सरकार ने इसके स्थायी समाधान के लिए 146 करोड़ रुपए की धनराशि का प्रावधान भी कर दिया है। उपायुक्त ने कहा कि जब तक स्थायी समाधान के लिए प्रस्तावित प्रोजेक्ट का कार्य पूरा न हो, अधिकारियों की टीम तत्काल राहत के लिए जल निकासी की रिपोर्ट तैयार करें। बैठक में एसडीएम रेवाड़ी रविंद्र यादव, एसई रविंद्र पाल, कार्यकारी अभियंता रविंद्र कुमार, नपा सचिव समयपाल सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...