किसान आंदोलन खत्म होने की घोषणा पर बोले दुष्यंत:कहा- एक और इतिहास रचा गया, PM मोदी ने आम आदमी के दिलों को छुआ

झज्जर7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
झज्जर में आयोजित जन सरोकार रैली को संबोथित करते हुए दुष्यंत चौटाला। - Dainik Bhaskar
झज्जर में आयोजित जन सरोकार रैली को संबोथित करते हुए दुष्यंत चौटाला।

हरियाणा के झज्जर में जननायक जनता पार्टी के तीसरे स्थापना दिवस पर आयोजित जन सरोकार रैली में उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने किसान आंदोलन खत्म होने की घोषणा पर बड़ा बयान दिया है। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि यह संयोग है कि 9 दिसंबर को एक और इतिहास रचा गया है। इस दिन 380 दिन लंबे चले संघर्ष को संयुक्त किसान मोर्चा ने खत्म करने का निर्णय लिया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का धन्यवाद करना चाहता हूं, जिन्होंने देश के आम नागरिकों के मन को छू लेने वाला निर्णय लिया और उन तीनों कानूनों को वापस लिया।

दुष्यंत ने कहा कि एक साल हमारे लिए भी आसान नहीं था। उन्होंने कहा कि मुझे वो दिन भी याद है, जब आंदोलन के बीच पहली बार किसी साथी ने अपने भतीजे की शादी में मुझे बुलाया। मुझे उस प्रोग्राम में जाना था, लेकिन उससे पहले ही फोन आ गया कि कुछ लोग व्यवस्था खराब करना चाहते है, इसलिए पुलिस का इंतजाम कर दो। दुष्यंत ने कहा कि उन्होंने शादी में जाने का ही प्रोग्राम कैंसिल कर दिया। उन्होंने कहा कि आंदोलन के बीच कई साथी नाराज भी हुए और दबाव भी बनाया कि भाई साहब फैसला करो, लेकिन हमने निर्णय लिया कि फैसला आपके हित में होना चाहिए और वो इस कठिन दौर में करने का भी काम किया।

रैली में उपस्थित लोग।
रैली में उपस्थित लोग।

विपक्ष ने एक साल माहौल किया खराब

इस दौरान दुष्यंत चौटाला ने विपक्ष पर साधा निशाना। उन्होंने कहा कि पूरे एक साल में विपक्ष ने माहौल खराब करने की भरसक कोशिश की, लेकिन किसानों को भी पता था कि उनके हित में कौन है। उन्होंने कहा कि पिछले 3 साल के दौरान गठबंधन की सरकार ने किसानों के हित में कई फैसले लिए है। इससे पहले 200 से भी कम मंडियों में जीरी की खरीद होती थी, लेकिन हमने इस बार 400 मंडिया बनाकर जीरी की खरीद करने के साथ-साथ किसानों की पाई-पाई उनके खाते में पहुंचाने का काम किया।

पहले किसान मंडी में फसल तो बेचकर चला जाता था, लेकिन उसकी फसल की कीमत उसे कई दिनों तक नहीं मिलती थी। इस बार हमनें मंडी में उठान होने के 72 घंटे के भीतर किसान की फसल का दाम उसके खाते में डाला। अगर कहीं देरी हुई तो किसान को इसकी भरपाई करते हुए 9% प्रतिशत का ब्याज भी दिया। दुष्यंत चौटाला ने करीब आधे घंटे तक भाषण दिया। उनका पूरा भाषण किसानों पर ही केंद्रीत रहा। इस दौरान दुष्यंत के पिता और जेजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अजय चौटाला ने भी रैली को संबोधित करते हुए 3 साल की सरकार के कामों को जनता के बीच रखा। रैली में जेजेपी कोटी से मंत्री अनूप सिंह, प्रदेशाध्यक्ष निशान सिंह, केसी बांगड़, नैना चौटाला, दिग्विजय चौटाला सहित सभी विधायक व बड़े नेता मौजूद रहे।

रैली में उपस्थित महिलाएं।
रैली में उपस्थित महिलाएं।

4 स्टेज बनाए गए थे

जन सरोकार रैली के लिए 4 मुख्य स्टेज बनाए गए थे। जिसमें पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के लिए मुख्य स्टेज, दूसरी पर पार्टी के अन्य राष्ट्रीय-प्रदेश स्तरीय पदाधिकारी बैठाया गया। तीसरी पर सांस्कृतिक कार्यक्रम हुए, जहां कई नामी कलाकार अपनी प्रस्तुति दी। चौथा स्टेज मीडिया के लिए बनाया गया। इसके अतिरिक्त हलका अध्यक्षों के लिए बैठने की अलग से व्यवस्था की गई थी। महिलाओं और पूर्व सैनिकों को रैली में कोई परेशानी न हो, इसके लिए अलग-अलग ब्लॉक बनाए गए।