पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बड़ी राहत:कालाका और लिसाना जलघरों में 31 दिन बाद पहुंचा पानी शहर को आज से मिल पाएगी नियमित पेयजल की सप्लाई

रेवाड़ी17 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • जेसी-3 पंप से लिफ्ट कर पानी पहुंचने लगा वाटर टैंकों में, भरने में लगेंगे कई दिन, जिले को मिला 720 क्यूसिक पानी

जवाहरलाल नेहरू नहर में पानी चलने के शेड्यूल में देरी के कारण कई दिनों से पेयजल को लेकर हाहाकार मचा हुआ था। अब शहरवासियों के लिए राहतभरी खबर है। 5 जनवरी की रात को सोनीपत के खुबड़ू हैड से छोड़ा गया 720 क्यूसिक पानी जेएलएन नहर से होते हुए गुरुवार की शाम को 6 बजे कालाका व लिसाना जलघरों के वाटर टैंकों में पहुंच गया।

दोनों जलघरों के वाटर टैंक कई दिन से सूखे पड़े थे। 9 दिसंबर को नहर में पानी चलना बंद हुआ था और अब 31 दिन में सूखी नहर और जलघरों में 7 जनवरी को पानी पहुंचा है। जेएलएन से होते हुए पानी के वाटर टैंकों में पहुंचने पर जनस्वास्थ्य विभाग ने भी राहत की सांस ली है। कई दिनों से शहर में पानी का संकट चल रहा था। शाम को जेसी-3 पंप से पानी को बड़ी मोटरें लगाकर लिफ्ट कर टैंकों में पहुंचाना शुरू कर दिया।

जनस्वास्थ्य विभाग के जेई अजय यादव ने बताया कि अब 8 जनवरी से पेयजल सप्लाई नियमित हो जाएगी। पहले जैसे शेड्यूल अनुसार ही शहर में पानी की सप्लाई छोड़ी जाएगी। बता दें कि दिसंबर माह के मध्य से ही अल्टरनेट-डे सप्लाई देने के साथ ही अब कई दिनों से सप्लाई भी बाधित रही। इधर-उधर से पानी को एकत्रित करके कुछ ही जोन में सप्लाई दी गई थी।

परेशानी- ज्यादातर कॉलोनियों में गुरुवार को भी नहीं मिला पानी

नहर में पानी चलने के शेड्यूल में देरी से गुरुवार को भी आधे से ज्यादा शहर को पानी नहीं मिल सका। इससे लोगों को बड़ी परेशानियों का सामना करना पड़ा। शहर के भीतरी हिस्से की कॉलोनियों में खासकर दिक्कत रही। लोगों को प्राइवेट टैंकरों से पानी मंगाना पड़ा, जिससे उनको आर्थिक नुकसान भी हुआ। लोगों का कहना है कि सिंचाई विभाग व जनस्वास्थ्य विभाग को एक बेहतर सिस्टम बनाना चाहिए।

स्थाई समाधान की दरकार- एक वाटर टैंक और बने, तब सुधरे हालात

कालाका जलघर में अभी अलग-अलग क्षमता के पांच वाटर टैंक और लिसाना में दो वाटर टैंक बनाए हुए हैं। इनमें पानी क्षमता से ज्यादा भरने के बाद भी शहर में लगभग 20 दिन सप्लाई दी जा सकती है। अब समस्या इसलिए आ रही है कि नहरी पानी का शेड्यूल बदल दिया गया है। यानी नहर में 16 दिन पानी चलता है और 24 दिन बंद रहता है। जबकि टैंकों की क्षमता कम है। ऐसे में पर्याप्त मात्रा में पानी का स्टोरेज नहीं हो पाता है।

यह है नहर में पानी चलने का शेड्यूल : सिंचाई विभाग की ओर से जेएलएन नहर में पानी चलने के शेड्यूल में पिछले माह से ही बदलाव किया गया है। इस बदलाव अनुसार अब नहर में 16 दिन पानी चलता है तो 24 दिन पानी बंद रहता है। यह शेड्यूल मार्च माह तक चलेगा। इसके बाद गर्मी के मौसम को ध्यान में रखते हुए आगामी शेड्यूल तैयार किया जाएगा।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- व्यस्तता के बावजूद आप अपने घर परिवार की खुशियों के लिए भी समय निकालेंगे। घर की देखरेख से संबंधित कुछ गतिविधियां होंगी। इस समय अपनी कार्य क्षमता पर पूर्ण विश्वास रखकर अपनी योजनाओं को कार्य रूप...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser