पत्र सौंपा:अवैध नहर निर्माण का कार्य रुकवाने के लिए किसान प्रतिनिधिमंडल ने सीएम को सौंपा पत्र

सिरसा14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • पानी के अभाव में उनकी जमीन बंजर होकर रह जाएगी

अवैध नहर निर्माण के विरोध में हल्का डबवाली के प्रभावित होने वाले 16 गांवों के सैकड़ों किसान शहीद भगत सिंह स्टेडियम में मदनलाल भांभू के नेतृत्व में एकत्रित हुए। किसानों के एक प्रतिनिधिमंडल ने अवैध नहर निर्माण को रुकवाने के लिए चौ. देवीलाल विश्वविद्यालय में जनता दरबार में मुख्यमंत्री मनोहर लाल को ज्ञापन सौंपते हुए अवैध नहर निर्माण को रोकने का अनुरोध किया। मुख्यमंत्री ने किसानों के प्रतिनिधिमंडल की मांग को ध्यानपूर्वक सुनते हुए उन द्वारा सौंपे गए मांग पत्र को स्वीकार किया। किसान प्रतिनिधिमंडल में अनिरुद्ध सिंह भांभू, जोगेंद्र माखा, सतपाल सिंह, सुखमंद्र सिंह, लवप्रीत सिंह शामिल थे। किसान नेता मदनलाल भांभू ने बताया कि अब किसान मुख्यमंत्री को सौंपे गए ज्ञापन पर लिए जाने वाले फैसले का इंतजार करेंगे।

यदि इस अवैध नहर निर्माण को रोका जाता है, तो सभी किसान मिलकर चंडीगढ़ में मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त करने जाएंगे। उन्होंने कहा कि अप्रत्यक्ष सभी पार्टियों के नेता दबी आवाज में अवैध नहर निर्माण का समर्थन कर रहे है, क्योंकि उनके लिए किसान से ज्यादा वोट बैंक महत्त्वपूर्ण है। यदि किसी भी परिस्थितियों में अवैध नहर का कार्य प्रारंभ किया जाता है, तो उसे रोकने के लिए 16 गांवों के किसान अन्य राज्यों के किसान संगठनों को साथ लेकर बड़ा आंदोलन करेंगे। अवैध नहर निर्माण को रोकने के लिए किसानों को बड़ी से बड़ी कुर्बानी देनी पड़ी, तो वह उसके लिए भी तैयार हैं। क्योंकि पानी के अभाव में उनकी जमीन बंजर होकर रह जाएगी। जहां पर फसल की पैदावार शून्य के बराबर होकर रह जाएगी। किसान नेता ने कहा कि अवैध नहर निर्माण के विरोध में तैयार किए गए ज्ञापन की प्रति सिरसा के उपायुक्त, डबवाली हल्का के विधायक अमित सिहाग सहित अन्य सभी पार्टी के नेताओं व प्रतिनिधियों के अतिरिक्त तथ्यों सहित अवैध नहर निर्माण के विरोध को सार्वजनिक किया है। उन्होंने बताया कि प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री से मिलने के बाद शहीद भगत सिंह स्टेडियम में पहुंचकर वहां सैकड़ों की संख्या में एकत्रित हुए किसानों को मुख्यमंत्री वार्ता के बारे में मंच के माध्यम से अवगत करवाया और कहा कि अब मुख्यमंत्री द्वारा लिए जाने वाले फैसले का इंतजार है। इस मौके पर किसान नेता राजेंद्र नेहरा, पवन नेहरा, राजा सिंह, दर्शन लाहोरिया, पाला विर्क सहित 16 गांवों के किसान उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...