• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Sirsa
  • In 3 And A Half Hours Of Hearing, Out Of 227 Applications Registered, Only 20 Percent Complaints Were Received.

सीएम का खुला दरबार:साढ़े 3 घंटे सुनवाई में रजिस्टर्ड 227 एप्लीकेशन में से मात्र 20 फीसदी शिकायतें ही आईं

सिरसा7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • बड़ी घोषणा- 50 बेड का बनाया जाएगा नशा मुक्ति केंद्र
  • बड़ा सवाल- नशा रोकने को नहीं आई एक भी शिकायत

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने रविवार को सीडीएलयू में खुला दरबार लगाकर आमजन की शिकायतें सुनी। कड़ी सुरक्षा के बीच साढे तीन घंटे तक चले इस दरबार में करीब 227 एप्लीकेशन पर सीएम ने सुनवाई की। सीएम के समक्ष आई एप्लीकेशन में सामने आया कि इनमें से मात्र 20 फीसदी ही किसी डिपार्टमेंट को लेकर शिकायत है। बाकी सभी नाले, खाले, सड़क बनवाने, पेंशन बनवाने और राशन कार्ड बनवाने, आंगनबाड़ी बनवाने, गली पक्की करवाने, पाइप लाइन डलवाने जैसी डिमांड है।

जिसको सीएम ने नगर दर्शन और ग्राम दर्शन पोर्टल पर डलवाने के आदेश दिए और पूरा करने की बात कही। जबकि 20 फीसदी शिकायत में भी निजी विवाद या लड़ाई झगड़े संबंधी मामले सामने आए। जिस पर सीएम ने एक्शन लेने की बात कही। हालांकि खारिया के हलका पटवारी महेंद्र के खिलाफ गाली गलौच करने की शिकायत पर सीएम ने उसे सस्पेंड कर दिया है। सीएम के इस खुले दरबार में यह चर्चा का विषय जरूर रहा कि शहर से जुड़ी कोई शिकायत या अन्य विभाग के प्रति शिकायतें क्यों नहीं आ रही है। डीसी कार्यालय से रजिस्टर्ड एप्लीकेशन में केवल डिमांड वाली शिकायतें अधिक थी ऐसे में यह चर्चा भी रही कि विभाग के अधिकारियों ने गंभीर शिकायतों की बजाए सीएम के समक्ष साधारण शिकायतें और डिमांड ही रजिस्टर्ड करके भेजी थी। जबकि सीएम आने से पहले कई गंभीर शिकायतों की सुनवाई होने की चर्चाएं थी। सीएम दरबार में नशे को लेकर भी किसी ने कोई शिकायत नहीं की।

खबरें और भी हैं...