पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

किसान आंदोलन:दिल्ली हिंसा के बाद किसानों ने रखा एक दिन का उपवास, बॉर्डर पर मनाया सद्‌भावना दिवस

राई3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

दिल्ली के लालकिला की हिंसा से आहत संयुक्त किसान मोर्चा के नेताओं व किसानों ने शनिवार को एक दिन का उपवास रखा। किसानों ने हिंसा के खिलाफ आज सद भावना दिवस मनाया। संयुक्त किसान मोर्चा के मंच से पहली बार हरियाणा के 12 वक्ताओं ने अपने विचार रखे और शांति की अपील की। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पुण्यतिथि को किसानों ने सद भावना दिवस के रूप में मनाया।

किसानों ने एक दिन का उपवास रखा। हरियाणा की तरफ से भी 12 से अधिक किसानों ने मंच सांझा किया और अपने वक्तव दिए। सुबह 9 बजे से ही मंच पर किसानों का जमावाड़ा लगना शुरू हो गया था। 12 किसान आज भी भूख हड़ताल पर रहे और बाकी किसानों ने एक दिन का उपवास रखा।

शनिवार को काफी संख्या में हरियाणा की खापों के नेता मंच पर पहुंचना शुरू हो गए। महिलाएं भी नारे लगाती हुई मुख्य मंच तक आई। सभी किसान एकता जिंदाबाद के नारे लगा रहे थे। बुजुर्ग नेताओं ने मंच से युवा किसानों में जोश भरनेे के लिए ओजस्वी भाषण दिए। चरखी दादरी से वकीलों का एक प्रतिनिधि मंडल भी किसानों को समर्थन देने के लिए मुख्य मंच पर पहुंचा।

दहिया खाप से पहुंचे चांद पहलवान ने कहा कि किसान दिल्ली में हुई हिंसा की निंदा करता है। लालकिला की घटना भारत के इतिहास में काला अध्याय के रूप में अंकित हो गई है। इसकी जांच होनी चाहिए। किसानों को शक है कि इस हिंसा के लिए सरकार जिम्मेदार है। जिन लोगों ने निशान साहेब का झंडा चढ़ाया था, वे पंजाब में भाजपा के वर्कर हैं।

वे किसान के रूप में पेश आए और किसानों के आंदोलन को बदनाम करने का प्रयास करने लगे। आंतिल चौबीसी खाप के प्रधान हवासिंह आंतिल, भारतीय किसान यूनियन अंबावत्ता के राष्ट्रीय महासचिव शमशेर दहिया ने कहा कि भारत का किसान कभी अपने देश से गद्दारी नही कर सकता। यह सब सरकार की चाल है। किसान सरकार के हर झूठे परोपगंडे के बेनकाब करेंगे।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आपका संतुलित तथा सकारात्मक व्यवहार आपको किसी भी शुभ-अशुभ स्थिति में उचित सामंजस्य बनाकर रखने में मदद करेगा। स्थान परिवर्तन संबंधी योजनाओं को मूर्तरूप देने के लिए समय अनुकूल है। नेगेटिव - इस...

    और पढ़ें