प्लास्टिक कचरा एकत्र करेगी एजेंसी:कचरा निपटान को नगर परिषद ने ई-कार्ट इवोल्यूशन एजेंसी के साथ किया एमओयू

गोहाना18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

नगर परिषद शहर से निकलने वाले प्लास्टिक के कचरे के संपूर्ण निपटान करेगा। इसके लिए नगर परिषद अधिकारियों ने ई-कार्ट इवोल्यूशन एजेंसी के साथ एमओयू किया है। एजेंसी डंपिंग स्टेशन से ही कचरे का उठान करेगी। प्लास्टिक कचरा निपटान के लिए एजेंसी को कोई शुल्क भी नहीं देना होगा।

नगर परिषद द्वारा शहर में घर-घर जाकर कचरे का उठान करवाया जा रहा है। इसके लिए शहर काे चार जोन में बांटा गया है। घरों और दुकानों से कई प्रकार का कचरा निकलता है। इसमें गीला, सूखा और प्लास्टिक कचरा भी होता है। गीले और सूखे कचरे का डंपिंग स्टेशन पर प्रोसेस कर निपटान किया जा रहा है। यह कार्य भी एक निजी एजेंसी कर रही है।

गीले और सूखे कचरे के निपटान के बाद प्लास्टिक का कचरा बच जाता था। प्लास्टिक कचरा पर्यावरण के लिए बहुत हानिकारक है। एनजीटी ने नगर परिषद को कचरे का संपूर्ण निपटान करने के आदेश दिए हुए हैं। एनजीटी के आदेशानुसार नगर परिषद अधिकारियों ने एक प्राइवेट एजेंसी के साथ अनुबंध किया है। एजेंसी डंपिंग स्टेशन से प्रोसेसिंग के बाद बचने वाले प्लास्टिक कचरे का उठान करेगी।

नगर परिषद प्रतिदिन शहर की कॉलोनियों और बाजार से कचरे का उठान करवाता है। अधिकारियों के अनुसार प्रतिदिन करीब 35 टन कचरे का उठान होता है। इसमें प्लास्टिक कचरा भी काफी मात्रा में होता है। नगर परिषद द्वारा डंपिंग स्टेशन पर कचरे का निपटान करने का कार्य एक निजी एजेंसी को दिया हुआ है।

नगर परिषद का डंपिंग स्टेशन 4 एकड़ में फैला हुआ है। प्रोसेसिंग कर कचरे का संपूर्ण निपटान किया जा रहा है। अधिकारियों के अनुसार एजेंसी द्वारा अब तक करीब 30 हजार टन कचरा प्रोसेस किया जा चुका है। कचरे की प्रोसेसिंग होने से करीब डेढ़ एकड़ जमीन खाली हो गई है।

शहर को किया जाएगा प्लास्टिक कचरा मुक्त

शहर को प्लास्टिक के कचरे से मुक्त किया जाएगा। इसके लिए एक निजी एजेंसी के साथ एमओयू किया है। शहर के दुकानदारों को भी प्लास्टिक का प्रयोग नहीं करने के लिए प्रेरित किया जाएगा। प्लास्टिक कचरा फैलाने पर दुकानदारों के खिलाफ कार्रवाई भी की जाएगी। राजेश वर्मा, ईओ, नगर परिषद, गोहाना

खबरें और भी हैं...