पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

व्यवस्था:शहरी गाेशालाओं में पशुओं की गिनती करवाएगा नगर परिषद

गोहाना7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • क्षमता से अधिक पशु होने का हवाला देकर बेसहारा पशुओं को लेने से कर रहे हैं मना, शहर की सड़कों पर घूम रहे हैं करीब 250 बेसहारा पशु

शहर की सड़कों को कैटलफ्री रखने के लिए नगर परिषद के पास पर्याप्त व्यवस्था नहीं है। ठसका रोड पर नंदीशाला बेसहारा पशुओं से फुल हो चुकी है। नंदीशाला में ओर अधिक पशुओं को रखने के लिए पर्याप्त शैड नहीं है। शहर में बनी गौशाला के संचालकों ने भी पशु रखने से मना कर दिया है। बेसहारा पशुओं को पकड़ने का कार्य बंद होने पर सड़कों पर पशुओं की संख्या बढ़नी शुरू हो गई है।

सड़कों को कैटल फ्री करने के लिए नगर परिषद अधिकारी शहरी गौशालाओं में पशुओं की गिनती करवाएंगे। गौशाला में क्षमता से कम पशु होने पर उनमें बेसहारा पशुओं को भेजा जाएगा। इसके साथ ही ग्रामीण क्षेत्रों की गौशालाओं से संपर्क किया जाएगा।

शहर की सड़कों को कैटलफ्री रखने के लिए नप प्रतिमाह लाखों रुपए खर्च किए गए हैं। इसके बावजूद भी शहरवासियों को बेसहारा पशुओं की समस्या से पूर्ण रूप से निजात नहीं मिली है। सड़कों पर बेसहारा पशुओं की संख्या में कमी नहीं आई है। नप द्वारा अधिकृत एजेंसी बेसहारा पशुओं को पकड़कर ठसका स्थित नंदीशाला में भेजी है। नंदीशाला में 500 पशुओं को रखने की व्यवस्था है।

अधिकारियों के अनुसार नंदीशाला में क्षमता के अनुसार ही पशु भेजे जा चुके हैं। अधिक पशु भेजने पर नंदीशाला में व्यवस्था चरमरा सकती है। वहीं सर्दी का मौसम होने के कारण पशुओं के लिए शैड की भी कमी रहेगी।

बेसहारा पशुओं को पकड़कर शहर की दूसरी गौशालाओं में भेजने के लिए नप अधिकारियों ने गौशाला संचालकों से मीटिंग की, लेकिन उन्होंने भी पशु रखने से मना कर दिया। अधिकारियों का कहना है कि शहर के बेसहारा पशुओं को पकड़कर ग्रामीण क्षेत्रों की गौशालाओं में भेजा जाएगा। इसके चलते जल्दी ही एसडीएम आशीष वशिष्ठ की अध्यक्षता में गौशाला संचालकों की मीटिंग बुलाई जाएगी।

ठसका नंदीशाला में बेसहारा पशुओं को रखने के लिए पर्याप्त स्थान नहीं है। शहरी गौशाला संचालक भी पशु लेने से मना कर रहे हैं। गौशालाओं में क्षमता के अनुसार पशुओं की गिनती करवाई जाएगी। क्षमता से कम पशु होने पर शहर के बेसहारा पशुओं को पकड़कर उनमें भेजा जाएगा। -राजेश वर्मा, ईओ, नगर परिषद, गोहाना।

8 माह में बेसहारा पशुओं से हुए हादसे
शहर में बीते 8 माह में में बेसहारा पशुओं के कारण दो घटनाएं हुई हैं। जुलाई माह में पानीपत हाइवे पर रूखी गांव के पास बाइक के सामने बेसहारा पशु आ गया था। इससे बाइक सवार प्रवासी युवक सूरज की मौत हो गई थी। सूरज यूपी के मुज्जफर नगर का रहने वाला था। सितंबर माह में महम-जींद बाइपास रोड पर बेसहारा पशु अचानक रोड पर आने से बाइक सवार घायल हो गया था।

ग्रामीण छोड़ जाते हैं शहर में पशु

शहर में बेसहारा पशुओं की संख्या बढ़ने को लेकर नप अधिकारियों का तर्क है कि ग्रामीण क्षेत्रों से लोग बेसहारा पशुओं को शहर में लाकर छोड़ देते हैं। शहर की सीमा चारों तरफ से ग्रामीण क्षेत्र से घिरी हुई है। इसके चलते पशुओं को पकड़कर नंदीशाला में भेजने के बाद भी शहर में बेसहारा पशुओं की संख्या कम नहीं हो रही है। नप अधिकारी बाहरी क्षेत्र से शहर में आने वाले बेसहारा पशुओं पर अंकुश लगाने में सफल नहीं हो रहे हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आपकी प्रतिभा और व्यक्तित्व खुलकर लोगों के सामने आएंगे और आप अपने कार्यों को बेहतरीन तरीके से संपन्न करेंगे। आपके विरोधी आपके समक्ष टिक नहीं पाएंगे। समाज में भी मान-सम्मान बना रहेगा। नेग...

    और पढ़ें