पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हादसा:बेसहारा पशु को बचाने के प्रयास में डिवाइडर से टकरा पलटी पिकअप

गोहाना8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पैकिंग दूध की सप्लाई करने गोहाना आ रही पिकअप गाड़ी के सामने सोनीपत रोड पर आवारा पशु आ गए। पशुओं को बचाने का प्रयास करने पर गाड़ी अनियंत्रित होकर डिवाइडर से टकराकर पलट गई। हादसे में चालक को भी हल्की चोटें आई हैं। वहीं, सोनीपत-गोहाना रोड पर वाहनों की कतार लग गई। सूचना के बाद पुलिस ने मौके पर पहुंचकर ट्रैफिक को सामान्य कराया।

सोमवार सुबह कुंडली से पिकअप गाड़ी में पैकिंग दूध भरकर चालक सोनीपत आ रहा था। गाड़ी में पैकिंग दूध से भरी कैरेट रखी हुई थी। सुबह सड़क पर अंधेरा था। जब गाड़ी सोनीपत रोड पर शेरसिंह स्कूल के पास पहुंची तो सड़क के बीचों-बीच एकाएक बेसहारा पशु आपस में लड़ते हुए आ गए।

अंधेरे के कारण चालक को दूर से बेसहारा पशु दिखाई नहीं दिए और पशुओं को बचाने का प्रयास करने पर गाड़ी अनियंत्रित हो गई। गाड़ी सड़क पर पलट गई। सड़क पर जाम नहीं लगे, सोनीपत रोड से आने वाले वाहनों को पिछले कट से डायवर्ट किया। सूचना के बाद भी पुलिस भी मौके पर पहुंची। करीब साढ़े सात बजे क्रेन बुलाकर गाड़ी को सड़क के बीच से हटाया। जब तक वाहनों को दूसरी तरफ डायवर्ट किया गया।

बिल कौन भरे, इसलिए नप सीमा से बाहर लगी लाइटें नहीं जलती

सोनीपत रोड पर करीब पांच वर्ष पहले एचएसआईडीसी ने बडौता गांव तक डिवाइडर बनाकर लाइटें लगाई थी। सोनीपत रोड पर कुछ हिस्सा नगर परिषद के अंतर्गत आता है तो कुछ हिस्सा पंचायत विभाग के अंतर्गत आता है। नगर परिषद ने सीमा के अंतर्गत आने वाली लाइटें के लिए कनेक्शन लिया हुआ है। उसका नियमित रूप से बिल भी भरा जा रहा है, लेकिन सीमा से बाहर लगी लाइटों को जलाने की नगर परिषद अधिकारियों ने जिम्मेदारी नहीं ली। वहीं, पंचायत विभाग भी बजट नहीं होने की कहकर लाइटें नहीं जला रहा है। इससे नगर परिषद सीमा के बाहर लाइटें नहीं जलने से अंधेरा रहता है।

बंद पड़ा अभियान
नगर परिषद द्वारा नप सीमा में पशु पकड़ने का अभियान चलाया हुआ था। जो पिछले करीब दस माह से बंद पड़ा हुआ है। लंबे समय से अभियान बंद रहने के कारण शहर में पशुओं की संख्या बढ़ गई हैं। शहर के पुराना बस अड्डा, सोनीपत रोड, जींद रोड, महम रोड, मुगलपुरा, बरोदा रेलवे फाटक के पास बेसहारा पशु बैठे रहते हैं। जैसे ही वाहन गुजरते है तो पशु एकाएक गाड़ी के सामने आ जाते हैं।

पशु पकड़ने का कार्य प्राइवेट एजेंसी को अलॉट किया गया है। डीसी से मंजूरी मिलने के बाद एजेंसी ने कार्य शुरू कर दिया है। एजेंसी द्वारा प्रत्येक रोड पर नगर परिषद सीमा में घूम रहे बेसहारा पशुओं को पकड़ेगी। इन पशुओं को ठसका गोशाला में भेजा जाएगा। -राजेश वर्मा, ईओ, नगर परिषद, गोहाना

खबरें और भी हैं...