पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कुंडली बॉर्डर:चढ़ूनी हाथ जोड़कर बोले-हरियाणा आलो म्हारी लड़ाई सरकार से है, शांति से जीतेंगे

राई3 महीने पहलेलेखक: देवेंद्र शर्मा
  • कॉपी लिंक
राई . कुंडली बॉर्डर पर शनिवार दोपहर 1:18 पर एक भंडारे में भारी भीड़ दिखी थी यहां भैंसवान खुर्द के लोगों ने भंडारे में देसी घी की जलेबी के साथ खीर का प्रसाद भी बनाया था। - Dainik Bhaskar
राई . कुंडली बॉर्डर पर शनिवार दोपहर 1:18 पर एक भंडारे में भारी भीड़ दिखी थी यहां भैंसवान खुर्द के लोगों ने भंडारे में देसी घी की जलेबी के साथ खीर का प्रसाद भी बनाया था।
  • किसान आंदोलन के धरना स्थल पर बढ़ने लगी भीड़
  • भैंसवान खुर्द के किसानों ने आंदोलन के भंडारे में देसी घी की जलेबी व खीर का प्रसाद बनया

कुंडली बॉर्डर पर चल रहे किसानों के धरने में अब हरियाणा के किसानों की संख्या लगातार बढ़ रही है। भारतीय किसान यूनियन के प्रदेशाध्यक्ष गुरनाम सिंह चडूनी खुद केएमपी एक्सप्रेस के पुल के पास हाथ जोड़कर किसानों के जत्थे का स्वागत कर रहे हैं। गाजीपुर बॉर्डर से भी किसानों का एक प्रतिनिधिमंडल कुंडली बॉर्डर पर पहुंच गया है। वे लगातार हरियाणा व पंजाब के किसानों के साथ मीटिंग कर आंदोलन को तेज करने के प्रयास में लगे हुए हैं। शनिवार को संयुक्त किसान मोर्चा के मुख्य मंच से हरियाणा के करीब 12 किसानों ने अपनी बात रखी।

उधर, आंदोलन से परेशान 12 गांवों के प्रतिनिधियों ने डीएसपी वीरेंद्र सिंह को एक ज्ञापन सौंपकर संयुक्त किसान मोर्चा के नेताओं के साथ मीटिंग करने की इच्छा जताई है। दिल्ली हिंसा के बाद आंदोलन ने शनिवार को एक बार फिर वापसी की राह पकड़ ली है। अब हरियाणा के देहात से किसान व महिलाएं ट्रैक्टर-ट्राॅलियों में किसान धरने में शामिल होने के लिए पहुंच रहे हैं। यहां महिलाओं ने आंदोलन स्थल पर चल रहे लंगरों में भी सेवा संभाल ली हैं। सोनीपत, जींद, कैथल, पानीपत, रोहतक, यमुनानगर, अंबाला से काफी संख्या में किसान ट्रैक्टर-ट्राॅलियों से कुंडली बॉर्डर पर पहुंचे।

चढ़ूनी बोले- सरकार आंदोलन को असफल करने में तरह- तरह के हथकंडे अपना रही

हरियाणा के गांव-गांव से ट्रैक्टर-ट्राॅलियों से पहुंच रहे किसानों का खुद प्रदेशाध्यक्ष गुरनाम सिंह चढ़ूनी हाथ जोड़कर स्वागत कर रहे हैं। केएमपी के पास नगूरा गांव के किसानों से बातचीत करते हुए चढ़ूनी ने कहा कि हरियाणा के भाई- बहनों अब परीक्षा की घड़ी आ गई है। जिस प्रकार से सरकार आंदोलन को असफल करने के लिए तरह- तरह के हथकंडे अपना रही है, उससे हमें सचेत और मजबूर होकर इस लड़ाई को लड़ना होगा।

हमें शांति का परिचय देना होगा। सरकार के एजेंट किसी भी वेषभूषा में हमला कर सकते हैं। हमें जोश में होश नहीं खोना है। वे हमारे आंदोलन को तोड़ना चाहते हैं, हमें इस आंदोलन को अंजाम तक पहुंचाना है। दिल्ली के लालकिला में जो घटना हुई, उसकी हम भी निंदा करते हैं। जिन लोगों ने तिरंगे का अपमान किया, उनकी पहचान कर सजा देना प्रशासन का काम है। किसान अहिंसा के मार्ग पर चलकर अपनी लड़ाई लड़ रहा है। हम यहां से हर हाल में जीतकर जाएंगे।

आंदोलन के कारण जीटी रोड बंद होने पर डीएसपी से मिले 12 गांवों के प्रतिनिधिमंडल

कुंडली थाना में 12 गांवों का एक प्रतिनिधि मंडल डीएसपी वीरेंद्र से मिला। डीएसपी को एक ज्ञापन सौंपकर संयुक्त किसान मोर्चा के किसान नेताओं के साथ मीटिंग की अपील की। सेरसा के सरपंच मोनू, करणी सेना के प्रदेश महामंत्री दीपक चौहान, क्षेत्रीय राजपूत महासभा के पूर्व प्रधान चरण सिंह चौहान, भारतीय किसान संघ के उपाध्यक्ष ताहर सिंह चौहान, हिंदू महासभा के जिला प्रभारी भैराबाकिपुर निवासी जयराम शर्मा, मानव अधिकार मिशन के अध्यक्ष मनीष चौहान, चांद मान सेरसा ने कहा कि पिछले 65 दिनों से जीटी रोड पर किसान आंदोलन के कारण से दिल्ली और आसपास का पूरा क्षेत्र बंद है।

जिस वजह से लोगों के रोजमर्रा के कामकाज, व्यापारिक गतिविधियां आदि पर बुरा प्रभाव पड़ा है। भारतीय किसान संघ के प्रदेश महामंत्री वीरेंद्र बढ़खालसा ने कहा कि क्षेत्र के लोगों के साथ बातचीत पंचायतों के रूप में हुई है। पंचायत में यह निर्णय हुआ की 31 जनवरी की पंचायत को टाल दिया गया है

गाजीपर बॉर्डर से कुंडली बॉर्डर पहुंचा किसान प्रतिनिधिमंडल

अखिल भारतीय किसान उत्थान मंच के राष्ट्रीय महासचिव एडवोकेट बलबीर सिंह मान ने बताया कि शनिवार को अखिल भारतीय किसान उत्थान मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुस्तकीम हसन, भारतीय गुर्जर समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं अखिल भारतीय किसान उत्थान मंच के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एडवोकेट मजाहीर राणा, कानूनी सलाहकार धमराज कोच गाजीपुर बॉर्डर से कुंडली बॉर्डर पर पहुंचे।

उन्होंने कुंडली बॉर्डर पर किसान नेताओं के साथ मीटिंग की। एडवोकेट बलबीर मान ने कहा कि सरकार की मंशा इस आंदोलन को बदनाम करने की थी, लेकिन किसानों ने शांति, साहस व मजबूती का परिचय देते हुए उनकी हर चाल को विफल कर दिया। किसान अब जागरूक हो चुका है। इस आंदोलन से किसान सरकार को झुकने को मजबूर कर देंगे।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- कहीं इन्वेस्टमेंट करने के लिए समय उत्तम है, लेकिन किसी अनुभवी व्यक्ति का मार्गदर्शन अवश्य लें। धार्मिक तथा आध्यात्मिक गतिविधियों में भी आपका विशेष योगदान रहेगा। किसी नजदीकी संबंधी द्वारा शुभ ...

    और पढ़ें