बेहद खुश:बजरंग के ओलिंपिक लक्ष्य को लेकर मकान पर 5 छल्ले बनवाए, ताकि घर आए तो टारगेट याद रहे

गोहाना2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • बजरंग का मैच उसके पिता, भाई, मां, भाभी यहां तक भतीजों ने भी एक जगह इकट्ठा बैठकर देखा

बजरंग के भाई हरेंद्र ने कहा कांस्य पदक से वह बेहद खुश। हरेंद्र बोले ओलिंपिक में बजरंग पदक जीते इसके लिए उसकी अच्छी डाइट, कोच पर ही ध्यान नहीं दिया बल्कि मन में लक्ष्य की धुन बन जाए इस पर भी उन्होंने काम किया। उसने अपने घर की छत, गाड़ी की चाबी के छल्ले सहित सभी स्पष्ट दिखाई देने वाली जगह ओलिंपिक के 5 छल्ले 4 साल पहले ही लगा दिए थे।

ताकि बजरंग घर पर आए तो उसे अपना टारगेट याद रहे। भाई ने अब ओलिंपिक में पदक जीतकर यह दिखाई दिया कि कोई लक्ष्य ऐसा नहीं जिसे पाया नहीं जा सकता। भाई का बेहद गर्मजोशी से स्वागत किया जाएगा।

सबने साथ देखा मैच, बजरंग जीत तो कूद पड़े सब

बजरंग का मैच उसके पिता, भाई, मां, भाभी यहां तक भतीजों ने भी एक जगह इकट्ठा बैठकर देखा। मैच शुरू होने पर जैसे ही बजरंग ने अंक लिए, कमरा तालियों व किलकारियों से गूंज उठा। बजरंग ने एक बार भी ऐसा पल नहीं आने दिया जब किसी के चेहरे पर शिकन आई हो। सब उसके शानदार प्रदर्शन से रोमांचित थे।

खबरें और भी हैं...