संकट में जन‘पथ’:सोनीपत रोड के गड्‌ढे ले चुके हैं एक युवक की जान, पिछले वर्ष ही सड़क का किया था निर्माण

गोहाना2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बरसात के कारण उखड़ा महम रोड। - Dainik Bhaskar
बरसात के कारण उखड़ा महम रोड।
  • महम रोड और सोनीपत रोड पर दबाई थी सीवर लाइन, महम रोड पर बिखरा पड़ा है रोड़ा
  • गोहाना उपमंडल में मुख्य मार्गों व लिंक सड़कों की लंबाई 750 किलोमीटर

गोहाना उपमंडल में मुख्य मार्गों और लिंक सड़कों की लंबाई करीब 750 किलोमीटर हैं। इनमें से 8 सड़कें महत्वपूर्ण हैं। ये सड़कें गोहाना शहर को अन्य शहरों से जोड़ती हैं। कुछ सड़कों पर गड्ढ़े गहरे हो जाने के कारण खतरनाक हो चुकी है।

बरसात होने पर पानी गड्ढों में भरने पर वाहन चालकों को गड्ढों की गहराई का अंदाजा नहीं लगता। इसलिए सड़कों पर चलना हादसे को निमंत्रण देना है। चालकों को रात को अधिक समस्या होती है। सड़कों पर स्ट्रीट लाइट भी नहीं लगी हुई है। इससे दोपहिया वाहन गड्ढों में गिरने से घायल हो जाते हैं। गड्ढों को भरने की मांग शहर के लोगों द्वारा लगातार उठाई जाती है, लेकिन गड्ढों को भरने का कार्य नहीं होता।

लोगों का कहना है कि मुख्य सड़कों की हालत जर्जर हो चुकी हैं। सड़कें बनने के कुछ समय बाद ही टूटनी शुरू हो जाती है। सड़क टूटने पर बरसात के दिनों में समस्या अधिक बढ़ जाती है। सोनीपत रोड पर बना गड्ढा एक युवक की जान ले चुका है। हादसा करीब चार माह पहले हुआ था। बाइक गड्ढे मे जाने पर संतुलन बिगड़ गया और बाइक डिवाइडर से टकरा गई। बाइक पर सवार युवक गढ़ी उजाले खां के युवक की मौत हो गई थी।

रोड बनाने के बाद दबाई पाइप लाइन, एक वर्ष बाद भी नहीं बनी सड़क, बरसात के दिनों में गड्ढ़ों में भर जाता है पानी

महम रोड की डिफेक्ट लाइब्लिटी पीरियड (डीएलपी) पूरा होने पर वर्ष 2018 में पीडब्ल्यूडी ने तारकोल व बजरी की नई लेयर बिछाई थी। इस पर करीब 2.90 करोड़ रुपए खर्च किए गए थे। वर्ष 2020 में जलापूर्ति विभाग ने भूमिगत सीवर पाइप लाइन दबाने के लिए खुदाई का कार्य किया था।

कार्य पूरा होने के बाद गड्ढे तो भरे, लेकिन तारकोल की लेयर एक वर्ष बाद भी नहीं भरी गई। हालत यह है कि सड़क पर जगह-जगह गहरे गड्ढे बने हुए हैं। रोड़ा बिखरा हुआ पड़ा है। गाड़ी गुजरने पर संतुलन बिगड़ने पर हादसा होने का अंदेशा बना रहता है। बरसात के दिनों में गड्ढ़ों में पानी भर जाता है। इस रोड पर भारी वाहन भी गुजरते हैं। कई बार भारी वाहन धंस भी चुके हैं।

सड़क बनाने से पहले मिट्टी का भराव सही नहीं किया, एक किमी में 9 जगह बने गड्ढे

सोनीपत रोड पर जलापूर्ति विभाग द्वारा सीवर लाइन दबाने का कार्य पूरा होने के बाद वर्ष 2020 में एनएचएआई ने निर्माण कार्य किया था। पाइप लाइन दबाने का कार्य ट्रेंचलेस तकनीक से किया गया था। मशीन लगाने के लिए जगह-जगह खुदाई की गई थी। बरसात के कारण जगह-जगह मिट्टी धंसने से करीब एक किलोमीटर के एरिया में करीब 9 जगह गड्ढे बन गए। निर्माण एजेंसी द्वारा इन गड्ढों को भरने का कार्य किया गया है।

शहर में इन पॉइंटों पर बने हैं गहरे गड‌्ढे

शहर में बस अड्डा के पास गजराज मोड, विश्वकर्मा चौक, महम-जींद रोड बाइपास, पानीपत रोड पर सोनीपत मोड के पास पर गहरे गड्ढे बने हुए हैं। तहसील रोड, गुढा रोड और मुगलपुरा रोड पर मास्टिक लेयर उखड़नी शुरू हो गई है।

3 वर्ष में टूटा महम-जींद बाईपास

बरसात होने पर महम-जींद बाईपास पर जलभराव होने से सड़क टूटनी शुरू हो गई। मार्केटिंग बोर्ड ने वर्ष 2018 में करीब 2.61 करोड़ रुपए की लागत से सड़क का निर्माण कराया था। इस रोड का प्रयोग शहर के बीचो-बीच गुजरने वाले भारी वाहनों को डायवर्ट करने के लिए किया जाता है। ताकि शहर में जाम की स्थिति नहीं बने। बाईपास जगह-जगह से टूटा हुआ है। गड्ढे होने और रात को लाइटें नहीं जलने से वाहन चालकों को अंधेरा होने के बाद बाईपास से गुजरने में असुविधा होती है।

जानिए कौनसी सड़क की कितनी लाइफ

  • बिटुमिन: तारकोल-बजरी की सड़क- 5-6 साल
  • इंटरलॉकिंग टाइलों की सड़क-10 से 15 साल
  • सीसी की सड़क- 10 से 15,17 साल

एक्सपर्ट से जानिए, सड़कें बदहाल क्यों और क्या है समाधान

बाईपास निर्माण के एजेंसी को दिए निर्देश

महम-जींद रोड बाइपास की मरम्मत करने के निर्देश निर्माण एजेंसी को दिए हैं। वहीं, ग्रामीण क्षेत्र की जो सड़कें टूटी हुई हैं, उनकी भी मरम्मत कराने के लिए एस्टीमेट तैयार किए जा रहे हैं। बरसात सीजन के बाद मरम्मत कार्य शुरू कराया जाएगा।

धर्मबीर, एसडीओ, मार्केटिंग बोर्ड, गोहाना

आहुलाना तक महम रोड फोरलेन करने का भेजा प्रपोजल

महम रोड को शहर से आहुलाना तक फोर लैन करने की योजना है। इसका प्रपोजल बनाकर भी मुख्यालय भेजा हुआ है। सीवर लाइन पाइन दबाने के लिए खुदाई का कार्य किए जाने के बाद बने गड्ढे को भरा दिया है। बरसात सीजन के बाद सभी सड़कों की मरम्मत कराई जाएगी। खानपुर रोड पर तारकोल की लेयर बिछाने का कार्य चल रहा है।

सुमित, एसडीओ, पीडब्ल्यूडी, गोहाना।

खबरें और भी हैं...