पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

तालाब भरने के निर्देश:जलापूर्ति विभाग के कर्मचारियों को प्रतिदिन भेजना होगा जलघर के तालाब में पानी की स्थिति का फोटो

गोहानाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • गर्मी में ग्रामीण उपभोक्ताओं को पर्याप्त पेयजल सप्लाई देने को जलघरों के तालाब भरने के निर्देश

गर्मी के सीजन में ग्रामीण क्षेत्रों में उपभोक्ताओं को पर्याप्त पेयजल सप्लाई देने के लिए जलापूर्ति विभाग के अधिकारियों ने जल घरों के तालाबों को भरने के निर्देश दिए हैं। अधिकारियों ने कर्मचारियों को प्रतिदिन जलघर के तालाब में पानी की स्थिति का फोटो भी भेजने के निर्देश दिए हैं। इससे अधिकारियों को पानी की स्थिति की रिपोर्ट मिलती रहेगी।

गर्मी के सीजन में घरों में पानी की खपत अधिक रहती है। अधिकांश गांव में पानी की सप्लाई जलघरों पर निर्भर है। इसके अतिरिक्त कई गांव में ट्यूबवेलों से भी पानी की सप्लाई दी जा रही है। गर्मी के सीजन में जलघर आधारित गांव में लोगों को पानी की किल्लत का सामना करना पड़ जाता है। जलघरों में पानी नहरों में पानी की उपलब्धता पर निर्भर है। नहरों में पानी छोड़ने का शेड्यूल 32 दिनों का है। जबकि जल घरों में पानी को एकत्रित करने की क्षमता 24 दिन की है। बीते कई दिनों से क्षेत्र के कई गांव में लोगों को पानी की किल्लत का सामना करना पड़ रहा था।

सिंचाई विभाग ने शुक्रवार को क्षेत्र की कई नहरों में पानी छोड़ा है। नहरों में पानी छोड़ा जाने पर अधिकारियों ने कर्मचारियों को जलघरों के तालाबों को भरने के निर्देश दिए हैं, ताकि ग्रामीण क्षेत्रों में पेयजल की किल्लत दूर हो सके। गर्मी के सीजन में पानी की उपलब्धता बनाए रखने के लिए अधिकारियों ने कर्मचारियों को तालाबों का प्रतिदिन फोटो भेजने के भी निर्देश दिए हैं, ताकि तालाब खाली होने से पहले सिंचाई विभाग के अधिकारियों से संपर्क कर नहरों में पानी छुड़वाया जा सके।

सिंचाई विभाग ने क्षेत्र की कई नहरों में पानी छोड़ा है। कर्मचारियों को जल घरों के तालाब भरने के निर्देश दिए हैं। इसके साथ ही कर्मचारियों को प्रतिदिन पानी की स्थिति की रिपोर्ट देने के भी निर्देश दिए हैं। प्रयास है कि गर्मी के सीजन में उपभोक्ताओं को पेयजल किल्लत का सामना ना करना पड़े। -सुरेश, एसडीओ, जलापूर्ति विभाग, गोहाना

खबरें और भी हैं...