नकदी लूटने की वारदात:20 साल की सजा पाने वाला पैरोल पर आकर 17 साल से था फरार, अब झारखंड से गिरफ्तार

सोनीपत8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस की गिरफ्त में आरोपी। - Dainik Bhaskar
पुलिस की गिरफ्त में आरोपी।
  • झारखंड में नाम बदलकर रहा, लड़की से शादी रचाई, होटल भी चला रहा

गन्नौर में 20 साल पहले पेट्रोल पंप संचालक और उसके कारिंदे से हथियारों के बल पर नकदी लूटने की वारदात में शामिल आरोपी अब तक झारखंड से छिपा था, जिसे वहां से गिरफ्तार कर लिया है। एसटीएफ ने बताया कि आरोपी 17 साल से फरार था। अब झारखंड में होटल बनाकर रह रहा था। वहीं आरोपी ने झारखंड की ही लड़की से शादी रचाई। अब उनके दो लड़के हैं।

एसटीएफ इंस्पेक्टर सतीश देशवाल ने बताया कि रमेश बत्रा निवासी गन्नौर ने सात फरवरी 2000 को मामले की शिकायत पुलिस को दी थी। उन्होंने बताया था कि जीटी रोड गन्नौर चौक उसका हरियाणा एग्रो सर्विस के नाम से पैट्रोल पंप है। वह ओर उसका कारिंदा दिन में दोपहर करीब 12 बजे की सेल के 62 हजार रुपए लेकर बैंक में जमा करने जा रहे थे। बैंक के पास पहुंचे तो तीन लड़कों आए। आरोपियों से एक पिस्तौल लिए हुए था, एक चाकू व एक खाली हाथ। जो आरोपी खाली हाथ था उसने रुपए से भरा थैला छीनने का प्रयास किया। लेकिन कारिंदे ने थैला नहीं दिया।

इस बीच चाकू लिए युवक ने कारिंदे पर वार किया। इस बीच खाली हाथ खड़ा लटका पैसों वाला थैला लेकर फरार हो गया। रमेश बत्रा ने शोर मचा दिया था। जिसके बाद एक आरोपी को पब्लिक ने मौके पर ही पकड़ लिया था। जबकि दो भाग गए। पकड़े गए आरोपी ने अपनी पहचान धर्मेंद्र निवासी चटिया औलिया के रूप में हुई थी। जबकि दो अन्य की भी पहचान कर ली गई थी।

पुलिस ने मामले में आरोपी पर केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी थी। आरोपी धर्मेंद्र को कोर्ट ने वर्ष 2003 में 20 साल की सजा सुनाई थी। इसके बाद आरोपी 2004 में पैरोल पर आया। इसके बाद फरार हो गया। इसके बाद उस पर 25 हजार का इनाम भी घोषित किया था

खबरें और भी हैं...