पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लॉकडाउन को 14 जून तक बढ़ाया:होटल व रेस्टोरेंट को 50% सीटिंग कैपेसिटी की छूट; दुकानें खोलने का समय सुबह 9 से शाम 6 बजे तक किया

सोनीपत6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
लोकडाउन ने वीरान हवेली पर अब लौटेगी रौनक। - Dainik Bhaskar
लोकडाउन ने वीरान हवेली पर अब लौटेगी रौनक।
  • होटल सुबह 10 से शाम 8 बजे तक ही खोले जा सकेंगे

लॉकडाउन को 14 जून तक बढ़ाते हुए प्रदेश सरकार ने होटल व रेस्टोरेंट को 50 प्रतिशत सीटिंग कैपेसिटी पर चलाने की छूट दी है। सुबह 10 बजे से शाम 8 बजे तक इन्हें खोला जा सकेगा। परमिशन अनुसार होम डिलीवरी रात दस बजे तक की जा सकेगी।

लॉकडाउन में बंद मुरथल का ढाबा कारोबार भी इससे पटरी पर आएगा। बाजारों में पहले से चल रहे लेफ्ट व राइट आधार पर ही दुकानों को खोलने का समय भी सुबह 9 से शाम 6 बजे तक कर दिया है। हालांकि अभी जिला प्रशासन द्वारा गाइड लाइन जारी होने का इंतजार है।

सोनीपत क्षेत्र में ही 70 से अधिक ढाबे हैं। कोरोना काल से पहले यहां सालाना करीब 150 कराेड़ का काराेबार हाे रहा था। 50 हजार से अधिक लाेग हर दिन खाना खाते आते रहे हैं।बाहर खाने का ट्रेंड अब और आगे बढ़कर शहर से बाहर जाकर खाने का हो गया है। इसी का फायदा सोनीपत क्षेत्र के मुरथल को मिला है।

पिछले कुछ सालों में यहां ढाबों ने आलीशान होटल का रूप ले लिया है। ट्रकों की बजाय लग्जरी कारें अब बाहर खड़ी होती हैं। दिल्ली से पंजाब के रूट पर चलने वाले यात्री ही नहीं एनसीआर क्षेत्र के लोग पार्टी और शौक में खाना खाने के लिए मुरथल के ढाबों पर पहुंचते रहे हैं। लेकिन पिछले एक साल से ढाबा कारोबार भी कोरोना की वजह से प्रभावित हुआ है।

दुकानें खोलने का समय सुबह 9 से शाम 6 बजे तक किया, होटल सुबह 10 से शाम 8 बजे तक ही खोले जा सकेंगे

सन् 1956 में सोनीपत के सरदार प्रकाश सिंह ने मुरथल में एक छोटा सा ढाबा खोला था। उस दौरान ढाबे पर मुख्य रूप से केवल ट्रक ड्राइवर ही खाना खाने पहुंचते थे। सरदार प्रकाश सिंह ने दाल-चावल व रोटी से ढाबा की शुरूआत की थी। इसके बाद ढाबा खोलने का दौर शुरू हो गया। एक के बाद एक करके मुरथल में 1980 तक बीस से अधिक ढाबे खुल गए। अभी मुरथल में करीब 70 ढाबे हैं, जिनमें करीब 25 अच्छे होटल की तरह विकसित हो चुके हैं।

15 ढाबे सरकार को भी दे रहे हैं आमदनी

ढाबा काराेबार ने सरकार की आमदनी में इजाफा किया है। करीब 15 हाेटल, ढाबे ऐसे हैं जो अच्छा खासा टैक्स दे रहे हैं। खाने पर 5 प्रतिशत जीएसटी है। ऐसे में हाईवे पर फला-फूला ढाबा कारोबार देश के विकास में भी भागीदारी दे रहा है।

50 प्रतिशत कैपेसिटी अनुसार लगाएंगे टेबल

अभी 50 प्रतिशत सीटिंग की इजाजत दी गई है। इसी अनुसार टेबल व्यवस्था ढाबों में की जाएगी। मन्नत ग्रुप चेयरमैन देवेंद्र कादियान ने कहा कि ढाबा कारोबार पर भी कोरोना महामारी में काफी प्रभाव पड़ा है। अब धीरे-धीरे गाइडलाइन में छूट मिल रही है। कोविड नियमों की पालना करते हुए ही ढाबा पर व्यवस्था की जाएगी। ढाबा एसोसिएशन प्रधान मंजीत सिंह ने बताया कि गाइडलाइन अनुसार व्यवस्था की जा रही है।

खबरें और भी हैं...