सेना में नौकरी का झांसा देकर साढ़े 7 लाख ठगे:सोनीपत में सिक्योरिटी एजेंसी चलाने वाले रिटायर्ड फौजी ने अपने ही चपरासी को थमा दिया फर्जी जॉइनिंग लेटर

सोनीपत11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सिविल लाइन थाना ने बताया कि महिला की शिकायत पर आरोपी के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है। - Dainik Bhaskar
सिविल लाइन थाना ने बताया कि महिला की शिकायत पर आरोपी के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है।

सेना से रिटायरमेंट के बाद हरियाणा के सोनीपत में सिक्योरिटी एजेंसी चला रहे एक व्यक्ति ने अपने ही चपरासी को सेना में नौकरी दिलाने का झांसा देकर 7.50 लाख रुपए ऐंठ लिए। सोनीपत की सिविल लाइन पुलिस ने पीड़ित की मां की शिकायत पर मामला दर्ज कर लिया। केस एसपी के आदेश के बाद दर्ज किया गया। इससे पहले आरोपी ने ब्याज समेत पैसे लौटने का वादा किया मगर रकम लौटाई नहीं।

सोनीपत शहर के लाल दरवाजा में रहने वाला शंकर सिक्योरिटी सर्विस देने का दावा करने वाली एक कंपनी में चपरासी का काम करता था। कंपनी सेना से रिटायर्ड बलवान सिंह नाम का व्यक्ति चलाता है। बलवान ने शंकर की मां प्रसन्नी को झांसे में लिया कि वह इसके बेटे को सेना में एमईएस कमांडर वर्कर्स इंजीनियरिंग में नौकरी लगवा देगा। इसके लिए उसने साढ़े 7 लाख रुपए मांगे।

फर्जी नियुक्ति पत्र थमा भेज दिया कानपुर
एसपी को दी शिकायत में प्रसन्नी देवी ने कहा कि बेटे को सर्विस दिलाने के लिए उन्होंने बलवान को 50 हजार रुपये नकद दे दिए। आरोपी ने कहा कि पूरे साढ़े सात लाख रुपये देने होंगे। उसने शंकर के कागजात भी मांगे। बाद में आरोपी के एक खाते में 5 लाख व दूसरे खाते में दो लाख रुपये जमा करवा दिए। राशि उसे वर्ष 2020 में दी गई। 11 नंवबर, 2020 को उसके पास नियुक्ति पत्र मिलिट्री इंजीनियरिंग सर्विस हेडक्वार्टर चीफ इंजीनियर साउर्थन कमांडेंट पुणे से आया था। जब उन्होंने बलवान को कहा तो बोला कि यह औपचारिकता है। बाद में एक नियुक्ति पत्र उसके बेटे के व्हाट्सएप पर आया। जिसमें उसे कानपुर बुलाया गया था। वह 8 दिसंबर, 2020 को कानपुर गया, लेकिन नियुक्ति नहीं हो सकी।

मामला दर्ज
प्रस्सनी देवी ने मामले में बलवान के खिलाफ एसपी को शिकायत देकर कार्रवाई की मांग की। सिविल लाइन थाना प्रभारी इंस्पेक्टर नीरज कुमार ने बताया कि महिला की शिकायत पर आरोपी के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है। जल्द ही उसे गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

खबरें और भी हैं...