परेशानी:रजिस्ट्री के साथ इंतकाल की घोषणा नहीं हुई लागू, 1800 इंतकाल बाकी

सोनीपत2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

मुख्यमंत्री घोषणा कर चुके हैं कि अब जमीन की रजिस्ट्री के साथ ही इंतकाल होगा। जिले में यह घोषणा अभी लागू नहीं हो सकी है। यहां तहसीलों में 1850 से अधिक इंतकाल पेंडिंग है। इसमें बड़ी संख्या में लोग विभाग के कार्यालय का चक्कर लगा रहे हैं। लंबे समय से तहसीलों में भ्रष्टाचार की शिकायत के बाद ही प्रदेश सरकार ने रजिस्ट्रियों को ऑनलाइन कर दिया था।

जिससे यह तय किया गया था कि अब अवैध कॉलोनियों में रजिस्ट्रियां नहीं हो पाएंगी। लेकिन कर्मियों और दलालों ने उसकी भी काट खोज ली थी। जिसके बाद सरकार ने तहसील वाइज डीटीपी से अवैध हिस्सों की लिस्ट तहसीलों में चस्पा करवा दी। इसके अंदर रजिस्ट्री होने पर तहसीलदार को जिम्मेदार ठहरा दिया गया।

साथ सॉफ्टवेयर में भी बदलाव कर दिया गया। जिसके बाद कुछ अंकुश लगा है। अभी सरकार ने इंतकाल के लिए अधिकतम 45 दिन का समय तय किया हुआ है। लेकिन घोषणा अनुसार अब साथ ही होने हैं। तहसीलदार मनोज अहलावत ने बताया कि सोनीपत तहसील में रजिस्ट्रियों की पेंडेंसी रूटीन है। एक पखवाड़े की रजिस्ट्रियों की पेंडेंसी है। यह समय पटवारी और कानूनगो से वेरिफाई होकर तहसील तक आने में लगता है। मेरे समक्ष फाइल आते ही इंतकाल पर हस्ताक्षर करता हूं, मेरे स्तर पर कुछ भी पेंडिंग नहीं है।

खबरें और भी हैं...