पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

अमृत याेजना:राजनीतिक रसूख के कारण 2 साल का काम साढ़े तीन साल में भी पूरा नहीं

साेनीपत6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सोनीपत. अमृत योजना के तहत बहालगढ़ रोड पर उखाड़ी सड़क।
  • काम किसी और ने लिया आगे टुकड़ाें में कराया जा रहा, 200 करोड़ के प्रोजेक्ट अधर में लटके, जनता हो रही पेशान
Advertisement
Advertisement

शहर काे सुंदर बनाने और लाेगाें काे बेहतर जीवन देने के लिए 200 कराेड़ की भारी भरकम धनराशि की जा रही है। बावजूद इसके आज तक लाेगाें काे वह सेवाएं नहीं मिल सकी है, जिस उद्देश्य से यह कार्य शुरू किया गया था। आलम ये है कि पालिटिकल रसूख रखने वाले लाेगाें काे बगैर किसी अनुभव के लाे बिडर की शर्त पर काम दे दिया गया है। कार्य लेने वाले लाेगाें ने आगे टुकड़ाें में अपना मुनाफा कुछ ही लाेगाें काे दे दिया। इन लाेगाें के पास पर्याप्त धन नहीं हाेने के कारण कभी लेबर भाग गई ताे कभी पेमेंट नहीं हाेने के कारण काम रुक गया।

सीवर पाइप लाइन का कार्य करने वाले ठकेदार ने 6 बार काम काे बंद और चालू किया। एक ही स्थान पर दाे-दाे बार काम किया। क्याेंकि जानकारी के अभाव में मेनहाेल बनाना ही भूल गया। जिसकी वजह से स्थानीय लाेगाें काे परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। अब अलग-अलग कार्याें के लिए ठेकेदाराें काे अलग टाइम बाउंड किया गया है। सबसे जरूरी कार्य शहर में 106 कराेड़ रुपए से चल रहा सीवरेज पाइप लाइन का कार्य है। जिसके कारण हजाराें की संख्या में लाेग परेशान हैं।

मार्च 2019 में पूरा हाेना था कार्य : सीवरेज पाइप लाइन और पेयजल पाइप लाइन का कार्य वर्ष-2018 में पूरा हाेना था, लेकिन लापरवाही और धन के अभाव में बार-बार काम रुकने की वजह से सीवर पाइप लाइन का कार्य इस अवधि में 40 प्रतिशत भी पूरा नहीं हाे पाया। इस अवधि में छह बार कार्य बंद हुआ। जिसमें सब्जी मंडी से जटवाड़ा काे जाने वाले मार्ग पर दाे-दाे बार कार्य किया गया। इसके अलावा मुरथल राेड पेमेंट के अभाव में कार्य राेक दिया गया। साथ ही सेक्टर-26 व 27 में भी काम बंद है। माेहन नगर में सड़क काे उखाड़कर छाेड़ दिया गया। वहीं पेयजल पाइप लाइन का कार्य करीब 65 प्रतिशत हुआ है।

काम समय से नहीं हाेने में लाेवेस्ट बिडर सबसे बड़ी बाधा
प्रदेश सरकार द्वारा टेंडर अलाटमेंट का जाे नियम बनाया गया है, उसमें सबसे अहम कड़ी टेंडर उस व्यक्ति काे दिया जाता है जाे सबसे लाेवेस्ट बिडर हाेता है। बड़े टेंडरों काे भरने वाले लाेगाें की संख्या कम हाेती है। जिसके कारण यह ठेकेदार आपस में पूल कर लेते हैं। वहीं राजनीतिक रसूख के कारण विभागीय मदद भी इनकी हाे जाती है। ऐसे ही इन टेंडर्स में भी किया गया। जिसके कारण विभाग से मिलने वाले पैसे से ही काम कराने का प्रयास किया गया। जब पेमेंट में देरी हुई ताे कार्य राेक दिया गया। जिसे लेकर नगर निगम काे ठेकेदाराें ने कई बार पत्र व्यवहार भी किया है। असल में जिसके नाम पर काम अलाट है, वह काेई कार्य नहीं कर रहा है। आगे टुकड़ाें में काम काे साैंप दिया गया है। वह ठेकेदार भी छाेटे ठेकेदाराें से लेबर का रेट देकर कार्य करा रहा है।

यह कार्य अब तक हुआ
निगम द्वारा सीवरेज सुधार और पानी पर 164 कराेड़ रुपए की भारी भरकम धनराशि खर्च की जा रही है। अधिकतर स्थानाें पर कार्य काे अधूरा ही छाेड़ दिया गया है। कार्य काे पूरा करने के लिए गुरुवार काे नगर निगम कमिश्नर ने 31 दिसंबर 2020 तक ठेकेदार काे टारगेट दिया है। सीवर और पानी की लाइन का कार्य अलग-अलग ठेकेदाराें काे दिया गया है। पेयजल पाइप लाइन का करीब 67 प्रतिशत कार्य हाे पाया है। जिसमें ठेकेदार काे 42 कराेड़ रुपए की पेमेंट अब तक की गई है।

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - अपने जनसंपर्क को और अधिक मजबूत करें। इनके द्वारा आपको चमत्कारिक रूप से भावी लक्ष्य की प्राप्ति होगी। और आपके आत्म सम्मान व आत्मविश्वास में भी वृद्धि होगी। नेगेटिव- ध्यान रखें कि किसी की बात...

और पढ़ें

Advertisement