सोनीपत में बाप बेटों ने हड़प लिए 14 लाख:फर्जी चिटफंड कंपनी बना मोटे ब्याज का दिया लालच, दवा विक्रेता और दोस्त झांसे में आए

सोनीपत5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतिकात्मक फोटो - Dainik Bhaskar
प्रतिकात्मक फोटो

हरियाणा के सोनीपत में दवा विक्रेता से 14 लाख रुपए की ठगी की गई है। पीड़ित ने यह रकम बहन की शादी और कारोबार को बढ़ाने के लिए जमा की थी। वह फर्जी चिटफंड कंपनी के झांसे में आकर इस राशि को गवां बैठा। पुलिस ने एक व्यक्ति और उसके दो बेटों के खिलाफ विभिन्न धाराओं में केस दर्ज किया है।

आठ मरला निवासी जितेंद्र कुमार ने पुलिस को दी शिकायत में बताया कि दवाओं का थोक विक्रेता है। उसके दोस्त प्रवेश ने दिसंबर, 2016 में उसे चिटफंड कंपनी चलाने वाले भूप सिंह निवासी शहजादपुर, सोनीपत के बारे में बताया। कहा कि इनके पास पैसा जमा करवाते हैं तो अच्छा ब्याज मिलेगा। इसके बाद उसकी मुलाकात भूप सिहं, उसके बेटे प्रदीप व योगेश से हुई। भूप सिंह ने बताया कि वो जमदागनी चिट फंड कंपनी का निदेशक है। कंपनी भारत सरकार से रजिस्टर्ड है, जिसका नंबर 35171 है और गांव शहजादपुर में उसका रजिस्टर्ड कार्यालय है।

2 फीसदी ब्याज के साथ लौटाने थे रुपए

जितेंद्र ने बताया कि दिसंबर, 2016 से अक्टूबर 2019 तक करीब 14 लाख रुपये भूप सिंह की चिटफंड कंपनी में जमा कराए। रुपए नकद दिए गए और इनकी कोई रसीद भी आरोपियों ने नहीं दी। उनका वादा था कि 30 जनवरी, 2020 को उनका लाखों रुपए 2 प्रतिशत ब्याज के साथ लौटाए जाएंगे। रुपए लौटाने का टाइम आया तो उन्होंने घर में शादी होने की बात कही और रुपए मार्च 2020 में देने की बात कही। इसके बाद लॉकडाउन लग गया और पैसे लौटाने का मामला लटक गया। भूप सिंह और उसके दोनों बेटे हर बार पैसे लौटाने के लिए तारीख पर तारीख देते रहे, लेकिन राशि लौटाई नहीं।

पैसे मांगे तो जान से जाओगे

तीनों ने 25 जुलाई 2021 तक सारे पैसे ब्याज सहित देने की बात कही। उनका कोई फोन नहीं आया। 5 सितंबर को अपने मित्रों के साथ भूप सिंह और उसके पुत्रों के घर प्रगति नगर सोनीपत गए। वहां तीनों मौजूद थे। उन्होंने पैसे लौटाने से साफ मना कर दिया और दोबारा पैसे मांगने पर जान से मारने की धमकी दी।

भूप और बेटों के खिलाफ केस

थाना सिविल लाइन के जांच अधिकारी एसआई रमेश कुमार ने बताया कि पुलिस ने जितेंद्र की शिकायत पर आरोपी भूप सिंह और इसके दोनों बेटों प्रदीप व योगेश के खिलाफ धारा 420, 406, 506 के साथ चिट फंड एक्ट 76 व 34 के तहत केस दर्ज किया है। आरोपियों को जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

खबरें और भी हैं...