• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Sonipat
  • Father Said Son Has Fulfilled His Dream, He Had Promised That I Will Return To The Country Only After Getting A Medal From The Olympics.

8-0 से जीता बजरंग:पिता बोले- बेटे ने सपना पूरा कर दिया, उसने वादा किया था ओलिंपिक से पदक लेकर ही देश लौटूंगा

सोनीपत2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • घर पर 12 बजे से ही जुटने लगी थी भीड़, वहीं रवि के सम्मान समारोह को लेकर हुई पंचायत

टोक्यो ओलिंपिक में भले पहलवान गोल्ड से चूक गए, लेकिन उनके गांव और देश के लोगों ने उनसे पदक की उम्मीद नहीं छोड़ी थी। शनिवार को जब कांस्य पदक के लिए उनका मुकाबला शुरू हुआ तो मॉडल टाउन स्थित उनके घर पर देखने वालों की भीड़ उमड़ पड़ी। उनके हर मूव पर तालियां बजतीं और पॉइंट शाबास का शोर। जीत के बाद पिता की आवाज निकली- बेटे ने कहा था पदक लेकर लौटूंगा।

कांस्य पदक के लिए उनका मुकाबला शाम 4 बजे के करीब शुरू होना था, लेकिन उनकी जीत का विश्वास इतना था कि लोग 12 बजे ही उनके घर जुटने लगे। घर पर मीडिया के कैमरा मैन, ओबी वैन की कतार लग गई थी। उनके मेडल वाले रूम में मैच देखने उनकी मां ओमप्यारी, पिता बलवान, भाई हरेंद्र के साथ लोगों की भीड़ लगी थी। मुकाबला के शुरुआत से ही बजरंग की फुर्ती पर सबने किलकारी मारी, तालियां बजाई। बजरंग ने एक के बाद अंक लिए तो पिता के मुंह से आवाज आई- शाबास बेटा। इसके बाद बजरंग ने जैसे 8-0 से मैच जीता तो मीडिया कर्मियों ने उनके पिता व परिजनों को घेर लिया। उधर लोगों ने बजरंग के पिता बलवान व भाई हरेंद्र को कंधों पर उठा लिया। पिता बोले-बजरंग में आज चीते जैसी फुर्ती दिखी। उसने ओलिंपिक में पदक जीतकर मेरा सपना पूरा कर दिया।

खबरें और भी हैं...