पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

म्हारा गांव जगमग गांव याेजना:चार साल में 108 में से 86 गांवों को योजना में किया शामिल

सोनीपतएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 30% का लाइन लॉस अब भी झेल रहा निगम, गांवों में 14 से 21 घंटे हो रही बिजली आपूर्ति

बिजली चाेरी राेककर लाइन लाेस कम करने व रिकवरी बढ़ाने के लिए जिले में 108 गांवों में म्हारा गांव जगमग याेजना के तहत घराें से बाहर मीटर लगाए जाने हैं। चार साल में 86 गांवों को योजना में शामिल किया जा सका है। जिले में अब भी 30 प्रतिशत का लाइन लॉस बिजली निगम झेल रहा हैै। निगम द्वारा लाइन लॉस के आधार पर फीडरों का चयन किया गया था। जिसके 68 फडरों से जुड़े 108 गांवों में ओवरलोडिंग और कनेक्शन से अधिक बिजली खपत की रिपोर्ट सामने आई थी। बिजली बिल अब भी बड़ी संख्या में लोगों ने जमा नहीं कराया है। मिशन को पूरा करने के लिए निगम द्वारा अब जुलाई का समय तय किया गया है।

सरकार ने गांवों में भी शहरी तर्ज पर आपूर्ति का आदेश दिया और सर्कल वाइज गांवों को म्हारा गांव जगमग गांव के तहत कार्य करने को कहा गया। लेकिन यह दौड़ अभी आधी ही हो पाई है। हालांकि इसमें ग्रामीण भी सहयोग नहीं कर रहे हैं। जिसके कारण भी योजना सिरे नहीं चढ़ पा रही है।

108 गांव योजना में शामिल हैं

जिले भर में योजना के तहत 108 गांवों को शामिल किया गया है। यह गांव 68 फीडरों के अधीन हैं। अभी तक कुल मिलाकर 86 गांवों में ही योजना के तहत कार्य हो पाया है। इन गांवों में अब 14 से 21 घंटे की आपूर्ति की जा रही है। निगम के अधिकारियों का कहना है कि योजना के तहत क्राइटेरिया तय किया गया है।

शहरी क्षेत्र के गांवों की स्थिति

सिटी डिवीजन में 23 फीडरों के 53 गांवों को म्हारा गांव जगमग गांव में शामिल किया गया था। इसमें 11 फीडर पर काम पूरा हो चुका है। जिसमें 23 गांव शामिल है। इन गांवों में निगम द्वारा औसतन 21 घंटे बिजली आपूर्ति की जा रही है। इसमें भैरा बांकीपुर, जाखौली, अटरेना, पबसरा आदि गांव शामिल है। शेष गांवों में जुलाई तक काम पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। जिसके अंतर्गत सभी एसडीओ को निर्देश दिया गया है।

ग्रामीण बोले- नियमित नहीं मिलती आपूर्ति

पबसरा निवासी प्रेम कुमार, राजू और राजेश ने बताया कि बिजली निगम के अधिकारियों द्वारा दिए गए दिशा-निर्देश के तहत सभी ग्रामीणों ने घर से बाहर मीटर निकलवाया। इसके बाद बिजली बिल भी लगभग सभी लोग चुका रहे हैं। लेकिन बिजली आपूर्ति आज भी 15 घंटे से ज्यादा नहीं है। कभी-कभार तो कह नहीं सकते हैं। लेकिन अमूमन नियमित सप्लाई 15 घंटे ही होती है।

बिजली निगम द्वारा उपभोक्ताओं को बेहतर आपूर्ति के लिए लगातार प्रयास किया जा रहा है। म्हारा गांव जगमग गांव योजना के तहत जुलाई तक कार्य पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। फिलहाल 23 गांवों में औसतन 21 घंटे बिजली आपूर्ति की जा रही है। -जेसी शर्मा, एक्सईएन बिजली निगम सोनीपत।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आर्थिक योजनाओं को फलीभूत करने का उचित समय है। पूरे आत्मविश्वास के साथ अपनी क्षमता अनुसार काम करें। भूमि संबंधी खरीद-फरोख्त का काम संपन्न हो सकता है। विद्यार्थियों की करियर संबंधी किसी समस्...

    और पढ़ें