कोरोना वैक्सीनेशन:मई में पहले 14 दिन में औसतन 2871 टीके रोज लगे, अब 2061 लग रहे

सोनीपतएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • 18 प्लस के लोगों की वैक्सीन का ज्यादा संकट, घटाए गए वैक्सीनेशन सेंटर

कोरोना को हराने के लिए वैक्सीनेशन सबसे बड़ा हथियार है। लेकिन जिले में वैक्सीन की कमी से वैक्सीनेशन का ग्राफ घट रहा है। एक मई से 14 मई तक हर दिन पहली डोज 2871 को लगी, लेकिन 15 मई के बाद हर दिन पहली डोज लगाने की यह औसत घटकर 2061 पर आ गई है। यही नहीं वैक्सीन की कमी के कारण वेक्सीनेशन सेंटर 72 से घटकर 45 रह गए हैं। 18 प्लस वाले लोग सबसे ज्यादा परेशान हैं।

यह जनवरी महीने से वेक्सीनेशन करवाने का इंतजार कर रहे थे, लेकिन अब रजिस्ट्रेशन करवाने के बाद भी स्लॉट नहीं मिला। कहने को अब इनके स्पॉट पर ही रजिस्ट्रेशन की व्यवस्था कर दी गई है लेकिन वैक्सीन की के कारण यह शर्त भी राहत नहीं दे पा रही है। यही नहीं दूसरी डोज लगाने के औसत में बड़ी कमी आई है। एक मई से 14 मई तक दूसरी डोज 1707 लोगों को लगाई गई। लेकिन 15 मई से 28 मई तक हर दिन दूसरी डोज लगाने की औसत घटकर 466 रह गई है।

इन्हें लगाई जानी है वैक्सीन

उम्र संख्या
18-44 वर्ष - 450000
45 से 60 - 418000
60 प्लस - 130000

खबरें और भी हैं...