• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Sonipat
  • Nihangs Told The Judge How They Kill Lakhveer Narayan Singh Said I Cut His Leg With A Sword, Then Sarabjit Hand, Bhagwant Govindpreet Helped To Hang Him On The Barricade

निहंगों का कबूलनामा:निहंग नारायण ने तलवार से लखबीर का पैर काटा, सरबजीत ने हाथ; भगवंत-गोविंदप्रीत ने बैरिकेड पर लटकाया

सोनीपत3 महीने पहले

हरियाणा में सोनीपत के सिंघु बॉर्डर पर लखबीर सिंह की हत्या के मामले में शनिवार को सरेंडर करने वाले 3 निहंगों को रविवार को सोनीपत कोर्ट में पेश किया गया। इस दौरान निहंग नारायण सिंह ने जज को बताया कि उसने किस तरह लखबीर सिंह को मारा। नारायण सिंह ने जज किमी सिंगला से कहा, ‘मैंने तलवार से लखबीर की टांग काटी और सरबजीत ने हाथ का पंजा। भगवंत और गोविंदप्रीत ने दम तोड़ने के बाद लखबीर की बॉडी बैरिकेड पर लटकाने में मदद की।

निहंगों के अपराध कबूल करने के मौके पर जज ने दो पत्रकारों को भी सुनवाई की रिपोर्टिंग करने के लिए कोर्ट रूम के अंदर बुलाया। शुक्रवार सुबह हुई लखबीर की हत्या मामले में अब तक 4 निहंग पुलिस के सामने सरेंडर कर चुके हैं। इनमें से नारायण सिंह, भगवंत सिंह और गोविंदप्रीत ने शनिवार को सरेंडर किया, जबकि सरबजीत सिंह शुक्रवार को ही सरेंडर कर चुका है।

कोर्ट में पेशी के बाद तीनों निहंगों को लेकर जाती पुलिस।
कोर्ट में पेशी के बाद तीनों निहंगों को लेकर जाती पुलिस।

निहंग नारायण सिंह, भगवंत सिंह और गोविंदप्रीत को पुलिस ने रविवार को दोपहर 2.40 बजे ड्यूटी मजिस्ट्रेट किमी सिंगला की कोर्ट में पेश किया। इस दौरान कोर्ट परिसर में सुरक्षा के कड़े प्रबंध किए गए थे। कोर्ट रूम में 2.45 बजे सुनवाई शुरू हुई, तो पुलिस ने तीनों आरोपियों का 14 दिन का रिमांड मांगा।

पुलिस ने दलील दी कि आरोपियों से हत्या में इस्तेमाल की गई तलवार बरामद की जानी है। खून से सने कपड़े भी अभी तक बरामद नहीं हुए हैं। तीनों को हरियाणा से बाहर भी कई जगह लेकर जाना है, ताकि हत्या में शामिल उनके अन्य साथियों की पहचान और गिरफ्तारी की जा सके। मौका-ए-वारदात की शिनाख्त भी कराई जानी है। घटनास्थल से सबूत किसने मिटाए, इसका पता करना भी बाकी है।

नारायण सिंह ने जुर्म कबूला, भगवंत-गोविंदप्रीत चुप रहे
जब पुलिस निहंगों का रिमांड मांग रही थी, उसी दौरान कोर्ट रूम में पेश किए गए नारायण सिंह ने जज किमी सिंगला के सामने अपना अपराध कबूल कर लिया। नारायण सिंह ने जज से कहा, ‘हत्या में जो-जो शामिल रहे, वह सरेंडर कर चुके हैं। लखबीर ने श्री गुरु ग्रंथ साहिब का अपमान और बेअदबी की। इस पर मैंने तलवार से उसकी टांग काट दी। सरबजीत ने उसकी बाजू काटी। वहीं पर मौजूद भगवंत सिंह और गोविंदप्रीत ने लखबीर को बेरिकेड पर लटकाने में मदद की।’ निहंग नारायण सिंह जिस समय जज को यह सब बता रहा था तब कोर्ट में भगवंत सिंह और गोविंदप्रीत चुपचाप खड़े रहे।

शनिवार को सरेंडर करने वाले 3 निहंगों को रविवार को सोनीपत कोर्ट में पेश किया गया।
शनिवार को सरेंडर करने वाले 3 निहंगों को रविवार को सोनीपत कोर्ट में पेश किया गया।

वारदात में हम चारों के अलावा और कोई शामिल नहीं
निहंग नारायण सिंह ने जज के सामने गुनाह कबूल करते हुए दावा किया कि इस वारदात में वह, सरबजीत, भगवंत सिंह और गोविंदप्रीत ही शामिल थे। उन चारों के अलावा इस हत्या में और कोई शामिल नहीं था। दोनों पक्षों को सुनने और नारायण सिंह के कबूलनामे के बाद रिमांड पर फैसला देने के लिए अदालत ने 3.10 बजे 15 मिनट का ब्रेक लिया। ब्रेक के दौरान गोविंदप्रीत ने पुलिस से पानी मांगा। इस पर एक जवान को पुलिस की गाड़ी से पानी की बोतल लेने के लिए भेजा गया।

6 दिन का रिमांड मंजूर, रोज मेडिकल कराएगी पुलिस
अदालत 3.25 बजे दोबारा बैठी और तीनों आरोपियों को 6 दिन के पुलिस रिमांड पर भेज दिया। अब इन तीनों को 22 अक्टूबर को चौथे आरोपी सरबजीत सिंह के साथ ही कोर्ट में पेश किया जाएगा। अदालत ने सरबजीत सिंह की तरह इन तीनों आरोपियों का भी रोजाना मेडिकल कराने, उन्हें रोजाना एक घंटे अपने वकील से बात करने और डेली बेसिस पर इसकी डीडीआर दर्ज करने के आदेश दिए।

निहंगों की पेशी के दौरान कोर्ट परिसर में मीडिया को दूर ही रोक दिया गया था।
निहंगों की पेशी के दौरान कोर्ट परिसर में मीडिया को दूर ही रोक दिया गया था।

पत्रकारों को जज ने बुलाया कोर्ट रूम में
पुलिस ने कोर्ट में पेशी के दौरान शनिवार को आरोपी सरबजीत सिंह की पगड़ी उतरने की घटना को गंभीरता से लेते हुए रविवार को मीडियाकर्मियों को आरोपियों के पास जाने की इजाजत नहीं दी। पत्रकारों को पुलिस की गाड़ियों से दूर रखा। इसे लेकर कुछ पत्रकारों की पुलिसवालों से बहस भी हो गई। हालांकि कोर्ट में निहंगों के रिमांड पर सुनवाई के दौरान जज किमी सिंगला ने दो पत्रकारों को प्रोसिडिंग देखने-सुनने के लिए कोर्ट रूम के अंदर बुलाया। जज के कहने के बावजूद पुलिस ने कुछ देर तक किसी पत्रकार को अंदर नहीं जाने दिया। इस पर कोर्ट का कर्मचारी जज के आदेश पर बाहर आया और दो पत्रकारों को साथ ले गया।

बचाव पक्ष के वकील ने जुर्म कबूलने की बात नकारी
निहंग नारायण सिंह, भगवंत सिंह और गोविंदप्रीत सिंह की ओर से कोई वकील कोर्ट में पेश नहीं हुआ। इस पर कोर्ट ने वकील संदीप भारद्वाज को उनका वकील मुकर्रर किया। तीनों निहंगों का 6 दिन का पुलिस रिमांड मंजूर होने के बाद अदालत से बाहर निकले वकील संदीप भारद्वाज से जब नारायण सिंह के कबूलनामे के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि ऐसा कुछ नहीं हुआ।

पुलिस का दावा- वारदात कबूली, अब सबूत जुटाएंगे
लखवीर हत्याकांड की जांच कर रहे सोनीपत के DSP वीरेन्द्र सिंह ने कहा कि कोर्ट में निहंगों ने अपना अपराध स्वीकार कर लिया है। अब पुलिस चारों से रिमांड के दौरान सबूत जुटाएगी।

खबरें और भी हैं...