सिंघु बॉर्डर पर नया विवाद:निहंग ने मजदूर से मुर्गा मांगा, नहीं देने पर टांग तोड़ दी; पुलिस ने हिरासत में लिया

सोनीपतएक महीने पहले

हरियाणा के सोनीपत जिले के सिंघु बॉर्डर पर नया विवाद सामने आया है। किसान आंदोलन में शामिल निहंग नवीन संधू ने कुंडली बॉर्डर के पास मुर्गा सप्लाई करने वाले मजदूर से मारपीट की है। निहंग ने मजदूर से मुर्गा मांगा था, जब मजदूर ने मुर्गा देने से इनकार कर दिया तो निहंग ने लाठी से पीट-पीटकर उसकी टांग तोड़ दी।

नवीन लंघू निहंग बाबा अमन सिंह के दल का है। घटना गुरुवार सुबह 11 बजे के आसपास सिंघु बॉर्डर की है। सोनीपत के कुंडली थाने की पुलिस ने निहंग नवीन संधू को हिरासत में ले लिया। पीड़ित मजदूर का नाम मनोज पासवान है। वह बिहार का रहने वाला है।

मुर्गा न देने पर मजदूर की टांग तोड़ने वाला निहंग नवीन संधू।
मुर्गा न देने पर मजदूर की टांग तोड़ने वाला निहंग नवीन संधू।

मजदूर मनोज पासवान को सोनीपत अस्पताल में भर्ती कराया गया है। मनोज पासवान के 2 वीडियो भी सामने आए हैं। पहला वीडियो 39 सेकेंड का है, जो सिंघु बॉर्डर का है। इसमें जमीन पर बैठा मनोज बता रहा है कि वह अपने रिक्शा में मुर्गे लेकर कुंडली और आसपास के गांवों में सप्लाई करने जा रहा था। रास्ते में निहंग नवीन संधू ने उससे मुर्गा मांगा। जब उसने कहा कि वह ऐसा नहीं कर सकता क्योंकि उसे गिनकर सप्लाई मिलती है और लौटकर हिसाब देना पड़ता है तो निहंग ने उसकी पिटाई शुरू कर दी।

44 सेकेंड के दूसरे वीडियो में सोनीपत अस्पताल में स्ट्रेचर पर लेटे मनोज ने कहा, ‘मैंने जेब से मुर्गों की संख्या वाली पर्ची निकालकर भी निहंग को दिखाई। पर्ची निकालते समय जेब में पड़ी बीड़ी मेरे हाथ में आ गई, जिसे देखकर निहंग ने गाली देते हुए कहा कि तुम बीड़ी पीते हो। जब मैंने कहा कि सभी पीते हैं। मैं भी पीता हूं, मगर यहां तो नहीं पीता। इस पर उसने मुझे दोबारा पीटा।’

सिंघु बॉर्डर पर मुर्गा न देने वाले मजदूर की टांग तोड़ने वाले निहंग नवीन संधू को थाने ले जाती पुलिस।
सिंघु बॉर्डर पर मुर्गा न देने वाले मजदूर की टांग तोड़ने वाले निहंग नवीन संधू को थाने ले जाती पुलिस।

मनोज पासवान कुंडली बॉर्डर पर चिकन शॉप चलाने वाले सत्यवान के पास काम करता है। सत्यवान ने बताया कि उनका कुंडली और आसपास के गांवों में मुर्गे सप्लाई का बिजनेस है। मनोज ही 15-16 साल से गांवों में मुर्गों की सप्लाई करता है। गुरुवार को भी वह रूटीन की तरह दुकान से मुर्गें लेकर अपने रिक्शा पर निकला तो रास्ते में निहंग ने उसे रोक लिया और पीट दिया।

सत्यवान के मुताबिक, मनोज के साथ रिक्शा पर एक और लड़का था। निहंग ने उसे भी पीटा मगर वह किसी तरह भागकर उनके पास पहुंच गया और घटना की जानकारी दी। इसके बाद वह घटनास्थल पर पहुंचे और वहां मौजूद किसानों की मदद से निहंग नवीन को पकड़ा। सत्यवान ने दावा किया कि नवीन संधू ने मुर्गा छीनने की कोशिश भी की।

सत्यवान ने बताया कि इस घटना के बाद कुंडली थाने की पुलिस उनके यहां आई थी। उन्हें शिकायत दे दी है। वह चाहते हैं कि गरीब मनोज पासवान के साथ मारपीट करने वाले निहंग के खिलाफ कड़ी कार्रवाई हो। टांग टूट जाने की वजह से मनोज के परिवार के सामने रोटी का संकट खड़ा हो गया है।

सिंघु पर हत्या के बाद चर्चा में बाबा अमन सिंह का दल सिंघु बॉर्डर पर 15 अक्टूबर की सुबह हुई तरनतारन जिले के चीमा गांव के लखबीर सिंह की हत्या के बाद बाबा अमन सिंह और उनका निहंग दल चर्चा में है। लखबीर सिंह की हत्या से जुड़े केस में पुलिस के सामने सरेंडर करने वाले चारों निहंग, नारायण सिंह, सरबजीत सिंह, भगवंत सिंह और गोविंदप्रीत सिंह बाबा अमन सिंह के ही दल के हैं। यह चारों पुलिस और सोनीपत कोर्ट में जज के सामने लखबीर को मारने का जुर्म कबूल कर चुके हैं। चारों का दावा है कि लखबीर सिंह ने श्री गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी की और इसीलिए उन्होंने उसकी हत्या कर दी।

खबरें और भी हैं...