नई सुविधा:सिविल अस्पताल में पीडब्ल्यूडी बनाएगा सवा सौ कमरों की तीन मंजिला बिल्डिंग

सोनीपत10 दिन पहलेलेखक: बृजेश तिवारी
  • कॉपी लिंक
सिविल अस्पताल में मरीजों की जांच करते हुए। - Dainik Bhaskar
सिविल अस्पताल में मरीजों की जांच करते हुए।
  • नई बिल्डिंग में डिमांड फर्टिलिटी व आईवीएफ सेंटर का होगा निर्माण

नि:संतानता का दंश झेल रहे जिलेवासियों के लिए आने वाले दिनों में सिविल अस्पताल बड़ा तोहफा लेकर आ रहा है। सिविल अस्पताल में एडवांस टेक्नोलॉजी से होने वाले इलाज का शुभारंभ होगा। सिविल अस्पताल की मौजूदा व्यवस्था के साथ-साथ 100 बेड की अतिरिक्त व्यवस्था की जा रही है। जिसमें स्वास्थ्य विभाग द्वारा आज के दौर की डिमांड के अनुसार चिकित्सकीय सुविधाएं मुहैया कराई जाएंगी। जिसके लिए करीब सवा सौ कमरों की तीन मंजिला नई बिल्डिंग बनाई जाएगी।

इसके लिए डीजी हेल्थ ने पीडब्ल्यूडी के आर्किटेक्चर को ड्राइंग में सुधार का निर्देश दिया है। ताकि नए परिसर में सर्विस के साथ-साथ नई सुविधाएं भी मरीजों को मुहैया कराई जा सके। इसका लाभ जिले के 12 लाख से अधिक लोगों को होगा। क्योंकि सिविल अस्पताल में एक साथ 200 सौ मरीजों के भर्ती होने का बड़ा इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार हो जाएगा। नई बिल्डिंग के निर्माण पर करीब 12 करोड़ रुपए खर्च होने का अनुमान है।

सिविल अस्पताल को 100 बेड से इंप्रूव कर 200 बेड का करने के लिए काफी समय पहले अप्रूवल मिल गई थी। लेकिन इसके प्रारूप के तैयार होने में देरी की वजह से अब तक योजना सिरे नहीं चड़ पाई। अब जब स्वास्थ्य विभाग के महानिदेशक ने पीडब्ल्यूडी को बिल्डिंग बनाने के लिए पत्र लिखा है तो पीडब्ल्यूडी द्वारा सिविल अस्पताल में कार्य शुरू करने की पहल की जा रही है। जिससे बड़े पैमाने पर जिलेवासियों को लाभ मिलेगा।

क्योंकि अभी सामान्य इलाज से कुछ ऊपर होने पर सिविल अस्पताल द्वारा मरीजों को खानपुर या पीजीआई रोहतक रेफर कर दिया जाता है। जिसके लिए ही पहले सिविल अस्पताल द्वारा स्वास्थ्य विभाग के मुख्यालय को अतिरिक्त बिल्डिंग की आवश्यकता दर्शाई गई थी, उसके मुताबिक ड्राइंग तैयार की गई थी। अब नए सुझाव के तहत पीडब्ल्यूडी द्वारा नई डिजाइन तैयार की गई है। जिसे डायरेक्टर जनरल हेल्थ को अप्रूवल के लिए भेजी गई है।

बिल्डिंग में ही होगी पार्किंग की व्यवस्था
पीडब्ल्यूडी के एसडीओ रवीन दत्ता ने बताया कि सिविल अस्पताल के लिए तैयार किए गए स्ट्रक्चर में एक ही बिल्डिंग में पूरी व्यवस्था की जा रही है। तीन मंजिला इस बिल्डिंग में ग्राउंड फ्लोर पर पार्किंग की सुविधा रहेगी। इसके अलावा फर्स्ट फ्लोर और सेकंड फ्लोर चिकित्सकीय सुविधाओं के लिए होगा। जिसमें स्वास्थ्य विभाग द्वारा प्रस्तावित नई तकनीक से होने वाले इलाज आदि के लिए इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार किया जाएगा। पहली डिजाइन में कोई खास तब्दीली नहीं की जाएगी। एक फ्लोर बढ़ाने का जो निर्देश दिया गया है। उसमें स्वास्थ्य विभाग द्वारा सुझाए गए बिंदुओं के तहत कमरे बनाए जाएंगे। जिसे अपने स्तर पर अधिकारी प्रयोग करेंगे।

नई बिल्डिंग में यह सुविधाएं मिलेंगी

  • 100 बेड की नई बिल्डिंग में इनफर्टिलिटी एंड आईवीएफ सेंटर।
  • मनोचिकित्सक, महिला एवं बाल रोग ओपीडी परिसर।
  • बालरोग विभाग न्यूट्रीशियन रिहैबिलिटेशन सेंटर।
  • बीमार बच्चों के लिए न्यू बॉर्न चाइल्ड केयर यूनिट।
  • डिस्ट्रिक अर्ली इनवेंशन सेंटर।
  • बच्चों के विभिन्न प्रकार की बीमारियों से संबंधित रोगों के इलाज की व्यवस्था भी नई बिल्डिंग में की जाएगी।

लोगों को जिले में ही मिलेगी बेहतर सुविधा
स्वास्थ्य महानिदेशक द्वारा पीडब्ल्यूडी को किए गए पत्र व्यवहार में अतिरिक्त एमसीएच ब्लॉक बनाने का निर्देश दिया गया है। ताकि सिविल सर्जन कार्यालय से संबंधित अधिकारियों के बैठने आदि की व्यवस्था हो सके। क्योंकि प्रस्तावित बिल्डिंग में केवल रोगियों और चिकित्सकों का ध्यान दिया गया। प्रशासनिक देखरेख के लिए कोई स्थान मुहैया नहीं कराया गया। एक अतिरिक्त ब्लॉक जुड़ने के बाद इसकी भी व्यवस्था की जा सकेगी।

अप्रूवल मिलते ही कार्य शुरू कर दिया जाएगा

स्वास्थ्य विभाग के महानिदेशक द्वारा पहले जो आवश्यकता दर्शाई गई थी, उसके मुताबिक ड्राइंग बनाई गई थी। अब विभाग द्वारा अतिरिक्त ब्लॉक के मुताबिक ड्राइंग तैयार करने का निर्देश दिया गया है। जिसके तहत कार्य किया जा रहा है। जल्द ही अप्रूव कराकर निर्माण कार्य शुरू कर दिया जाएगा। -पंकज गौड़, एक्सईएन पीडब्ल्यूडी सोनीपत।

खबरें और भी हैं...