बॉर्डर पर रास्ते बंद होने से उद्यमी व व्यापारी परेशान:कुंडली में बैठक कर सरकार से राहत पैकेज का ऐलान करने की मांग उठाई

सोनीपत2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कुंडली में मीटिंग में उपस्थित राष्ट्रीय जन उद्योग व्यापार संगठन के प्रतिनिधि। - Dainik Bhaskar
कुंडली में मीटिंग में उपस्थित राष्ट्रीय जन उद्योग व्यापार संगठन के प्रतिनिधि।

कुंडली बॉर्डर के पास निजी रिसॉर्ट में राष्ट्रीय जन उद्योग व्यापार संगठन के प्रतिनिधियों तथा औद्योगिक क्षेत्र के उद्यमियों एवं व्यापारी वर्ग की बैठक में कई अहम मुद्दों पर चर्चा हुई। बैठक में राष्ट्रीय जन उद्योग व्यापार संगठन ने सरकार से उद्यमियों और व्यापारियों के लिए राहत पैकेज का ऐलान करने की मांग की।

गौरतलब है कि पिछले एक साल से किसान आंदोलन के कारण दिल्ली से लगते बॉर्डर बंद रहे हैं। रास्ते बंद होने से कल कारखाने, रिटेल आउटलेट एवं छोटे व्यापारी मंदी की मार झेलते रहे। इसी को देखते हुए आज राष्ट्रीय जन उद्योग व्यापार संगठन ने बड़े राहत पैकेज की मांग की है।

कृषि कानून वापस होने के बावजूद रास्ते नहीं खोले

बैठक में राष्ट्रीय जन उद्योग व्यापार संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित गुप्ता ने कहा कि किसान आंदोलन के नाम पर सरकार ने तमाम रास्ते बंद कर रखे हैं। इससे कुंडली बॉर्डर के आस पास स्थित व्यापारियों और औद्योगिक इकाइयों के समक्ष व्यवसाय की समस्या आ गई है। अब कृषि कानून वापस होने के बावजूद सरकार ने सुचारु रूप से रास्ते नहीं खोले हैं। सरकार जल्द से जल्द रास्ते खोलने का काम करे।

उन्होंने कहा कि केवल कुंडली की बात करें तो यहां करीब 1400 व्यावसायिक इकाइयां हैं। आंदोलन की वजह से 700 से ज्यादा इकाई बंद हो चुकी हैं। व्यवसायी काफी परेशान हैं। अमित गुप्ता ने कहा कि इस औद्योगिक क्षेत्र से स्थित 50 प्रतिशत से अधिक उद्योग बंद होने से व्यापारी उद्यमी कर्ज के गिरफ्त के मकड़जाल में फस चुके हैं। हरियाणा सरकार तथा केंद्र सरकार ने व्यापारियों की तरफ कोई ध्यान नहीं दिया है।

समस्याओं पर ध्यान दे सरकार

आंदोलन के कारण यहां स्थापित समस्त व्यापारिक व औद्योगिक इकाइयां बंद हैं, इससे व्यापारियों को भारी आर्थिक नुकसान उठाना पड़ा है। अमित गुप्ता ने मांग करते हुए कहा कि आंदोलन अवधि का आकलन कर नुकसान की समुचित भरपाई की जाए। बंद औद्योगिक इकाइयों को एकमुश्त समाधान योजना लाकर उनको दोबारा चालू करवाएं। उद्यमियों/फर्मों के लोन पर उस अवधि में पूर्ण ब्याज माफी की जाए तथा बैंकों में नवीन ऋण सहजता से उपलब्ध हों ताकि व्यापारी वर्ग दोबारा संचालित करने में सक्षम हो सके। व्यापारियों की समस्याओं पर सरकार ध्यान दे नहीं तो व्यापारी भी सड़क से लेकर संसद तक आंदोलन को मजबूर होंगे।

प्रदूषण के नाम पर बंद उद्योगों का मुद्दा उठाया

वहीं राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष अशोक बुआनीवाला ने कहा कि आंदोलन के अलावा एनसीआर में प्रदूषण के नाम पर बंद उद्योगों का मामला भी उठाया। बुआनीवाला ने कहा कि जब भी कोई औद्योगिक इकाई लगाई जाती है तो उसे समयानुसार सरकार के सभी नियम शर्तें पूरी करनी होती हैं, इनमें प्रदूषण की नियमावली भी शामिल है। उन्होंने कहा कि बंद हो चुकी इकाईयों के बिजली के बिल अभी भी आ रहे हैं। हमारी राज्य सरकार से मांग है कि बिजली बिलों को रोका जाए और पुराने बकाया बिलों को माफ किया जाए।

व्यापारियों के समक्ष आत्महत्या करने की नौबत

राष्ट्रीय संयोजक संतोष मंगल ने कहा कि कोरोना काल से व्यापारी वर्ग काफी मुश्किल दौर से गुजर रहा है। लॉकडाउन हटने के बाद कुछ उम्मीद जागी तो किसान आंदोलन से उनके समक्ष आत्महत्या करने की नौबत आ चुकी है। आज देश में स्थिति ऐसी बन गई है कि व्यापारी पस्त तो सरकार मस्त है। किसान अन्नदाता तो व्यापारी धनदाता है। किसान का सम्मान और व्यापारी का लगातार अपमान किया जा रहा है। सवाल ये है कि आखिर ऐसा कब तक चलता रहेगा।

सबसे ज्यादा हरियाणा का व्यापारी प्रभावित

सोनीपत जिला व्यापार मंडल के प्रधान संजय सिंगला ने बताया कि किसान आंदोलन से सबसे ज्यादा प्रभावित हरियाणा का व्यापारी हुआ है। विशेषकर कुंडली बॉर्डर जहां से दिल्ली से कच्चे माल एवं उत्पादन की आवाजाही सबसे ज्यादा प्रभावित हुई है। यहां का व्यापारी अब भूखे मरने को मजबूर है।

नीजि क्षेत्र में 75 प्रतिशत आरक्षण की पुन: समीक्षा हो

राष्ट्रीय जन उद्योग व्यापार संगठन के प्रदेश अध्यक्ष गुलशन डंग ने कहा कि प्रदेश सरकार नीजि क्षेत्र में 75 प्रतिशत आरक्षण की पुन: समीक्षा करें। स्थानीय युवाओं में स्कील की बेहद कमी है, इस कारण उद्योगों को स्कील कामगारों की समस्या का सामना करना पड़ेगा। आरक्षण देने से पहले प्रदेश सरकार को स्किल डेवलेपमेंट के इंस्टीट्यूट स्थापित कर स्थानीय युवाओं को पूरा प्रशिक्षण देना चाहिए था। बैठक में राष्ट्रीय वरिष्ठ महामंत्री दीपक अग्रवाल, राष्ट्रीय महासचिव विकास गर्ग, राष्ट्रीय प्रवक्ता अभय जैन, राजेन्द्र अग्रवाल अध्यक्ष अग्रेसन धाम कुंडली महेन्द्र गोयल, प्रधान स्माल केयर इंडस्ट्रीय राई, बड़ी इंडस्ट्रीज एसोसिएशन से विशाल गोयल, राकेश देवगन सहित अनेक उद्यमी उपस्थित रहें।

खबरें और भी हैं...