पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

कोरोना संकट:रामलीला कमेटी ने रामलीला का मर्म समझाया, इस बार मंचन नहीं, कथा वाचक करेंगे वर्णन

सोनीपत13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कल्याण नगर में आदर्श रामलीला कमेटी द्वारा शनिवार को श्रद्धालुओं को रामलीला का मर्म समझाया गया। निर्देशक रमेश बत्रा ने कहा कि विशेष रूप से अपने बाल-कलाकारों की, श्रद्धालु दर्शकों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए इस वर्ष रामलीला मंचन न करके मोबाइल के माध्यम से ही दृश्यों की चर्चा क्रमशः की जाएगी। राम कथा गायक भाई राजेश द्वारा लीला के दृश्यों का वर्णन उसी क्रम में किया जाएगा , जिस क्रम में क्लब के कलाकार गत वर्ष तक मंचन करते रहे हैं। प्रथम दृश्य भगवान शिव जी की उपासना का है।

रावण, कुंभकर्ण, विभीषण तथा उनकी बहन स्वरुप कुमारी की तपस्या से भगवान शिव जी प्रसन्न हुए। कुंभकर्ण को 6 माह सोने का विभीषण जी को भक्ति का, स्वरूप कुमारी को सौंदर्य का वरदान मिला। रावण ने अमर होने का वरदान मांगा लेकिन भगवान ने कहा कि अमर का वरदान नहीं मिल सकता। शिव जी ने रावण को चंद्रहास नामक तलवार देते हुए कहा कि प्रतिदिन इसकी पूजा करना। वरदान प्राप्त करके रावण अभिमान में संतों को सताने लगा तथा यज्ञ आदि विधवंस करवाने लगा।

पृथ्वी माता की फरियाद तथा पूर्व जन्म में दशरथ जी को दिए वरदान के कारण भगवान जी राम रुप में अवतरित हुए। दशरथ जी बहुत प्रसन्न हैं क्योंकि आयु के चौथेपन में उनके आंगन में बच्चों की किलकारियां गूंज रही हैं। मुनि वशिष्ठ जी ने बच्चों का नामकरण संस्कार सम्पन्न करवाया। राज कुवंरो के नाम राम, भरत , लक्ष्मण तथा शत्रुघ्न रखे गए। अयोध्यावासियों के साथ-साथ देवता भी प्रसन्न हैं। क्योंकि भगवान ने राक्षसों के संहार एवं देवताओं के हित के लिए अवतार लिया है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- किसी अनुभवी तथा धार्मिक प्रवृत्ति के व्यक्ति से मुलाकात आपकी विचारधारा में भी सकारात्मक परिवर्तन लाएगी। तथा जीवन से जुड़े प्रत्येक कार्य को करने का बेहतरीन नजरिया प्राप्त होगा। आर्थिक स्थिति म...

और पढ़ें