आरोप / व्यवस्था से परेशान रिक्शा वाला पत्नी के साथ धरने पर बैठा, कुछ ही देर बाद 5500 का चालान 600 का कर भरवाया

X

  • आरोप लगाया चालान के बाद उसकी रिक्शा से सामान चोरी कर लिया गया

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

सोनीपत. भास्कर न्यूज | सोनीपत
मुरथल रोड पर चालान करने के बाद जब्त की गई ई-रिक्शा से सामान चोरी किए जाने के मामले ने तूल पकड़ लिया है। चालक ने व्यवस्था सही न बताकर अधिकारियों पर समाधान न करने का आरोप लगाया। यही नहीं शुक्रवार को लघु सचिवालय के पास पत्नी के साथ धरना पर बैठ गया। चालक ने कहा उसकी रिक्शा का बेवजह ज्यादा रकम का चालान किया गया। धरना शुरू करने के बाद असर भी देखने को मिला। 5500 रुपए का चालान 600 रुपए का कर दिया गया, ओर भुगतान भी करवा लिया। लेकिन पीड़ित ने कहा रिक्शा से चुराए सामान के बारे पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। इसके साथ दो महीने का पार्किंग चार्ज 7500 रूपये बताया गया है। 
शिव कालोनी में रहने वाले सचिन ने बताया  कि 23 मार्च को वह मुरथल राय अस्पताल में एक बीमार व्यक्ति को अपनी रिक्शा में लेकर गया था। जब बीमार को छोडकर वापिस आ रहा था तो मुरथल रोडवेज ट्रेनिग सैन्टर के सामने उसकी रिक्शा के आगे एक सूमो गाडी को रोक दिया। सूमो मेंं बैठे  अधिकारी ने  कागजात दिखाने के लिए कहा। उसने अपनी रिक्शा के सारे कागजात दिखाएं। लेकिन  उसकी  बात को अनसुना कर दिया गया। यही नहीं रिक्शा रोजवेज ट्रेनिंग सैन्टर मे खडी करवा कर चले गए। वह एक बजे से  पांच बजे तक वहीं खडा रहा। फोन पर मैसेज आया तो पता चला उसकी रिक्शा को इम्पांउड करके 5500 रुपए का चालान कर दिया गया है। 24 मार्च से लॉकडाउंन के कारण दो महीने तक चालान नही भरा जा सका। इस बीच वह मुरथल रोडवेज ट्रेनिंग सैन्टर गया तो देखा रिक्शा से लगभग 7500 रुपए का सामान गायब मिला। वहां पर तैनात कर्मचारियों से उसने पूछताछ की तो गाली गलौच की। आरोप लगाया तैनात कर्मचारियों ने जल्दी चालान भर कर रिक्शा छुडवा लो वरना प्रति दिन 120 रुपए के हिसाब से पैसे बढते जा रहे है। अब तक लगभग 7500 रुपए पार्किंग चार्ज लग चुका है।
चालान से एक महीना पहले लिया था लोन : सचिन ने बताया वह बहुत जरूरतमंद है। रिक्शा इंम्पाउड होने से एक महीना पहले ही बैंक से लोन लेकर नया रिक्शा खरीदा था अब लॉकडाउन के कारण रोटी का इन्तजाम भी मुश्किल हो रहा है तो बीस बाईस हजार रुपए भरने के लिए रकम कहां से लाऊंगा।
उसकी गुहार नहीं सुनी : सचिन ने बताया कि इस सारे मामले को लेकर वह पिछले सात दिन से आरटीओ, उपायुक्त,  पुलिस अधीक्षक कार्यालय के चक्कर काट रहा है। इसके बावजूद कोई कार्यवाही नही हुई । जिसके कारण हाताश व मजबूर होकर उपायुक्त कार्यालय पर अपनी पत्नी के साथ धरने पर बैठा हूं। सचिन ने कहा पार्किंग चार्ज को रद्द किया जाए। इसके साथ रिक्शा से चोरी किए सामान की रिकवरी करवाई जाए।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना