पेंशन के लिए फर्जीवाड़ा::समाज कल्याण ने वेरिफिकेशन में पकड़ा, 11 पर कार्रवाई की तैयारी

सोनीपत2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • स्टेशनरी की दुकानों पर मिलती है एसएलसी, दूसरे फर्जी प्रमाण पत्र

जिले की स्टेशनरी की दुकानों पर हर प्रकार के सर्टिफिकेट और कागज प्रिंट कराकर बेचे जा रहे हैं। इसका लोग गलत तरीके से फायदा उठा रहे हैं। पेंशन का लाभ लेने के लिए लोग कॉपी किताब की दुकानों से स्कूल की लिविंग सर्टिफिकेट समाज कल्याण विभाग में लगा रहे हैं। साथ ही समाज कल्याण विभाग में लगे दस्तावेजों की कापी कर लोग फर्जी मेडिकल लगाने से भी नहीं चूक रहे हैं। समाज कल्याण विभाग द्वारा फर्जी स्कूल सर्टिफिकेट और नकली विकलांग मेडिकल में इस तरह की बातें सामने आ रही है। जिन पर समाज कल्याण 11 लोगों के खिलाफ कार्रवाई की हैै। इसमें चार से वसूली भी कर ली गई है। सामाजिक न्याय व अधिकारिता मंत्रालय द्वारा कमजोर और असहाय लोगों के जीवन यापन के लिए विभिन्न मद के तहत पेंशन दी जाती है। इसके लिए फर्जी कागजात लगाए जा रहे हैं। इसके अलावा स्कूल से प्रमाण पत्र तक फर्जी होने की बात सामने आ रही है। समाज कल्याण विभाग द्वारा हाल ही में कराए गए सर्टिफिकेट और मेडिकल की वेरिफिकेशन में मेडिकल और स्कूल का सर्टिफिकेट फर्जी पाया गया है। इस तरह बनाया जा रहा मेडिकल : समाज कल्याण विभाग द्वारा विकलांग सर्टिफिकेट के आधार विकलांगों को पेंशन दी जाती है। विकलांग न होते हुए भी लोग, लाभ लेना चाहते हैं। जिसके तहत यह अपने जानकारों के मेडिकल सर्टिफिकेट को स्कैन कर लेते हैं, या फिर सिविल अस्पताल द्वारा जारी किए गए नंबर को नोट कर लेते हैं। जिसके बाद कंप्यूटर सेंटर पर जाकर हू ब हू सर्टिफिकेट बनाकर पुराने नंबर को ही उस चढ़ा दिया जाता है। जिसे विभाग के पास जमा करा दिया जाता है। जिसकी अगर जांच नहीं की जाती तो आवेदक को पेंशन का लाभ दे दिया जाता है। ऐसे सात मामले सामने आए हैं।

रिकवरी की जा रही है

पेंशन के लिए लोग फर्जीवाड़ा कर रहे हैं। वेरिफिकेशन का कार्य किया जा रहा है। जो भी गलत पाया जा रहा है, पेंशन तो रोकी ही जा रही है, साथ ही रिकवरी भी की जा रही है। बहुत ही चालाकी से लोग नकली कागज तैयार करा रहे हैं।

महावीर प्रसाद गोदारा, जिला समाज कल्याण अधिकारी सोनीपत।

खबरें और भी हैं...