नगर निगम का जनता दरबार बना औपचारिकता:नहीं पहुंचें शिकायतकर्ता, पुरानी शिकायतों पर ही उलझते रहे वार्ड पार्षद और अधिकारी

सोनीपत2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सोनीपत. जनता दरबार में इस बार महज कुछ लोग ही शिकायत लेकर पहुंचे। - Dainik Bhaskar
सोनीपत. जनता दरबार में इस बार महज कुछ लोग ही शिकायत लेकर पहुंचे।

नगर निगम का जनता दरबार एक बार फिर से औपचारिकता बनकर रह गया है। नगर निगम में बुधवार को वार्ड 15 व 16 का जनता दरबार लगाया गया। हद यह रही कि इसमें वार्ड पार्षद व उनके प्रतिनिधि को छोड़कर कोई भी शहरी अपनी समस्या लेकर नहीं पहुंच सका।

इसकी बड़ी वजह लोगों की समस्याओं की लगातार अनदेखी के साथ इस बार निगम प्रशासन की ओर से जनता दरबार को लेकर जागरूकता का संदेश नहीं देना रहा। वार्ड पार्षदों ने खुलकर नगम अधिकारियों पर सुनवाई नहीं करने का आरोप भी लगाया।

नगर निगम का ऐसा रहा जनता दरबार
नगर निगम के नागरिक सुविधा केन्द्र में आयोजित इस जनता दरबार में जनता दरबार के दौरान स्थिति यह रही कि ज्यादातर समय निगम अधिकारी ज्यादातर समय आपस में ही शहर की समस्याओं पर चर्चा करते नजर आए। जनता दरबार में 34 समस्याओं को रखा गया।

इन समस्याओं को लेकर परेशान है नागरिक

वार्ड 16 में वार्ड पार्षद प्रतिनिधि अनिल नागर ने बताया कि वार्ड के अधिकांश क्षेत्र में सालों से पेयजल आपूर्ति ही नहीं है। जिसके लिए कई बार शिकायतें दी गई है, लेकिन उनके समाधान को लेकर अब तक कोई ठोस कार्रवाई नहीं हो सकी। वहीं दूसरी ओर करीब 14 हजार की आबादी पर 15 भी सफाई कर्मी नहीं है।

जनता दरबार में लोगों की समस्याओं को वार्ड पार्षदों ने रखा है। इस बार आमजन लोग कम आए, अगली बार और ज्यादा लोगों को जागरूक किया जाएगा। वार्डों की समस्याओं के समाधान के लिए अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं। अगले दरबार से पहले ही समस्या के हल की रिपोर्ट भी ली जाएगी।

सुभाष चन्द्र, संयुक्त आयुक्त, नगर निगम, सोनीपत।

खबरें और भी हैं...