सीए दिवस आज / 1982 में सोनीपत में बना था पहला सीए, अब तक बन चुके 403

सोनीपत. सीए दिवस की पूर्व संध्या पर सजाई गई सीए ब्रांच। सोनीपत. सीए दिवस की पूर्व संध्या पर सजाई गई सीए ब्रांच।
X
सोनीपत. सीए दिवस की पूर्व संध्या पर सजाई गई सीए ब्रांच।सोनीपत. सीए दिवस की पूर्व संध्या पर सजाई गई सीए ब्रांच।

  • आज 16 पूर्व प्रधान विद्यार्थियों संग सांझा करेंगे यादंे, विद्यार्थियों को देंगे आगे बढ़ने के टिप्स

दैनिक भास्कर

Jul 01, 2020, 04:00 AM IST

सोनीपत. आर्थिक विश्लेषण के नजरिए से महत्वपूर्ण माने जाने वाले सीए कोर्स को लेकर मन में चाहत तो बहुत थी, लेकिन बेसिक सुविधाएं नहीं होने के कारण काफी समस्याएं थी, लेकिन ने हिम्मत की और दिल्ली से पढ़ाई कर साल 1982 में तिलक चौहान सोनीपत के पहले सीए बने, महिला वर्ग में यह गौरव मंजू कुच्छल को मिला।

तब अपने साथ दूसरे बच्चों को भी इस दिशा में प्रेरित करने के लिए पहली बार यहां भी ब्रांच शुरू की गई और इसके बाद तो एक सिलसिला ऐसा निकला कि मुश्किल माने जाने वाले इस कोर्स को लेकर विद्यार्थियों में इस कदर उत्साह बढ़ा कि आज सोनीपत में 403 पंजीकृत सीए हैं जबकि एक हजार से ज्यादा विद्यार्थी सीए की तैयारी के लिए एग्जाम की तैयारी में जुटे हैं। 

2001 में हुई थी पहली ब्रांच की शुरुआत
सोनीपत में सीए ब्रांच को लेकर काफी सुनहरी यादें है, जब यहां पहली बार सीए ब्रांच की स्थापना 2001 में हुई तो मौके पर पहुंचे तब के राष्ट्रीय अध्यक्ष मौजूदा समय में राज्यसभा सांसद एनडी गुप्ता का ऋर्षिकुल विद्यापीठ में हाथी के द्वारा फूल माला पहनाकर अभिनंदन किया गया था।

उस समय एनआईआरएसी ब्रांच के चेयरमैन रतन मंगला तथा मौजूदा समय में सैंट्रल काउंसिल मेंबर अमरजीत चोपड़ा शामिल रहे थे। 2002-03 में तिलक चांदना से आगे बढ़े सिलसिले को मौजूदा समय में अनुज मंगला संभाल रहे हैं।

इस बार का सीए डे होगा खास : मौजूदा प्रधान अनुज मंगला ने बताया कि सोनीपत का इस बार का सीए डे बेहद खास होने जा रहा है। मौजूदा ब्रांच पदाधिकारियों ने तय किया है सुबह सोनीपत के अनाथालय, वृद्धाश्रम जाकर जरूरतमंद को खाना, सैनिटाइजर एवं मास्क आदि वितरित करेंगे। बच्चों को पाठ्य सामग्री प्रदान की जाएगी। इसके बाद पहली बार सीए ब्रांच की ओर से जूम एप पर ई लेटर जारी किया जाएगा। इस दौरान ब्रांच के सभी पूर्व प्रधान विद्यार्थियों एवं मौजूदा टीम के साथ रूबरू होंगे। 

इसलिए आज है सीए दिवस : एक जुलाई, 1949 को संसद के एक कानून से इंस्टिट्यूट ऑफ चार्टड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया (आईसीएआई) अस्तित्व में आया। यह सदस्यों की संख्याओं के मामले में दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा पेशेवर लेखा और वित्तीय निकाय है। इससे करीब 2.5 लाख सदस्य रजिस्टर्ड हैं।

आईसीएआई ही सीए कोर्स करवाता है और विभिन्न परीक्षाओं का आयोजन करता है। चार्टर्ड अकाउंटेंट्स को आईसीएआई द्वारा ही लाइसेंस दिया जाता है। इसकी अनुशंसाओं को नैशनल फाइनेंशल रिपोर्टिंग अथॉरिटी (एनएफआरए) से लेकर कंपनियां और अकाउंटिंग संगठन मानते हैं।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना