बाइक सवार लोगों के लिए अधिक मुसीबत:शादी में दोस्तों के बीच झगड़ा हुआ था, पुलिस ने दो हत्यारोपियों को गिरफ्तार किया

सोनीपत21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
रोहतक रोड आरओबी के डैमेज हिस्से में बरसात के बाद भरा पानी, जहां गुजरते हुए वाहन। - Dainik Bhaskar
रोहतक रोड आरओबी के डैमेज हिस्से में बरसात के बाद भरा पानी, जहां गुजरते हुए वाहन।
  • गड्‌ढों में हो रहे हादसे, 20 हजार लोग कीचड़ में आवागमन करने को मजबूर

सीवरेज की वजह से परेशानी का सबब बने रोहतक रोड आरओबी के डैमेज हिस्से में गुरुवार को बरसाती पानी से लोगों की मुसीबत और भी बढ़ गई। सीवरेज से यह हिस्सा पहले से ही लबालब है। ऐसे में शहर में हुई बरसात का पानी भी इस हिस्से में इकट्ठा हो गया है। जिससे जलस्तर करीब दो फीट तक हो गया है।

आवागमन करने वाले वाहन चालकों के वाहन इन गड्‌ढों में फंस रहे हैं। क्योंकि बरसाती पानी की वजह से सड़क और गड्ढे का भेद नहीं चल रहा है। बाइक और स्कूटर सवार इसमें गिर रहे हैं। जिससे लोगों को चोट भी लग रही है। अधिकारियों द्वारा केवल पूरे मामले में एक दूसरे पर आरोप लगाया जा रहा है। 72 घंटे में मरम्मत का दावा करने वाले एनएचएआई के अधिकारी अभी तक यहां स्थिति देखने भी नहीं पहुंचे। नगर निगम द्वारा केवल निकासी का तरीका बताया गया है। जिससे 20 हजार से अधिक लोग परेशान हैं।

रोहतक रोड आरओबी की सड़क पहले पीडब्ल्यूडी के अधीन थी। जब तक उनके पास यह सड़क थी, तब तक किसी प्रकार की परेशानी यहां पर नहीं हुई। एनएचएआई के पाले में सड़क जाते ही अव्यवस्था शुरू हो गई है। जिससे लोगों का आवागमन में बहुत परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। आलम ये है कि पिछले सप्ताह इसमें एक ऑटो पलट गया था। जिसमें सवार एक बुजुर्ग महिला पानी में ही गिर गई। पास से गुजर रहे वाहन चालक की तत्परता से बचाया गया था। लेकिन सुधार के लिए कार्य नहीं किया जा रहा है।

1020 करोड़ रुपए खर्च कर रहा एनएचएआई
रोहतक रोड आरओबी एनएच-334बी का हिस्सा है। जिसके नव निर्माण पर नेशनल हाइवे द्वारा करीब 1020 करोड़ रुपए की भारी भरकम धनराशि खर्च की जा रही है। लेकिन आरओबी के हिस्से में जमा होने वाले पानी की निकासी के लिए विभाग के पास कोई इंतजाम नहीं है। क्योंकि चार साल से अधिक समय से यहां पर स्थिति खराब है। जिसमें दर्जनों लोग गिर चुके हैं। लोगों की इस गंदगी से होकर ही रोजाना गुजरना पड़ रहा है।

मरम्मत करवाई जाएगी

  • एनएचएआई द्वारा सड़क की मरम्मत करवाई जाएगी। अब तक गड्‌ढों का भर दिया गया होता। लेकिन बरसात की वजह से पानी ज्यादा भर गया है। बरसात के बाद सड़क की मरम्मत का कार्य करा दिया जाएगा। सीवरेज का इंतजाम तो नगर निगम को ही करना होगा। - आनंद दहिया, डीजीएम एनएचएआई।

यह समाधान हो सकता है
रोहतक रोड आरओबी के रिटेनिंग वाल के हिस्से में जमा होने वाले पानी को रोकने के लिए इंडस्ट्रियल एरिया के अंतिम सीवर मेनहोल से पहले वाले मेनहोल को बंद कर दिया जाना चाहिए। क्योंकि सीवरेज का लेवल कालूपुर चुंगी की तरफ है। इस मेनहोल से एमपीएस तक जाने वाली लाइन में इसे जोड़ा जा सकता है। जिससे ढलान की तरफ पानी आराम से निकल जाएगा। क्योंकि अंदरूनी हिस्से में सीवरेज सिस्टम पूरे एरिया में डेवलप किया गया है।

खबरें और भी हैं...