पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सोनीपत:तीन साल पहले 800 कुत्तों की नसबंदी की, अब दोबारा से टेंडर खर्च करेंगे 31 लाख

सोनीपत8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

नगर निगम एक बार फिर से निगम क्षेत्र में कुत्तों को पकड़ उनकी नसबंदी करेगा। इस बार प्रति कुर्ते पर खर्च के बजाए सीधे 31 लाख का टेंडर अलाट किया गया है। तीन साल पहले निगम ने विशेष अभियान चलाकर 800 की नसबंदी का दावा किया था, लेकिन कुत्तों की शहर भर में भीड़ उस दावे की हकीकत पर सवाल खड़े कर रही है। सीएसआई साहब सिंह ने बताया कि नए टेंडर की प्रक्रिया शुरू कर दी है। इसका बजट 31 लाख रुपए रखा गया है।

निगम ने 20 जनवरी 2017 को दिया था टेंडर
शहरी क्षेत्र में कुत्तों की हो रही लगातार बढ़ोतरी पर अंकुश लगाने के लिए निगम ने तिरुपति फाउंडेशन को 20 जनवरी 2017 को टेंडर दिया था। इस काम के लिए फाउंडेशन को प्रति कुत्ते की नसबंदी के लिए 740 रुपए निगम की ओर से दिए गए। निगम अधिकारियों का भी दावा है कि उसमें करीब 800 कुत्तों की नसबंदी कर चुके हैं। बाद में यह अभियान बंद हाे गया और इसकी निगरानी भी नहीं हाे पाई। नगर निगम के अधिकारियों का दावा है कि कुत्तों की नसबंदी को लेकर मॉनीटरिंग की जाती है। हालांकि यह मॉनीटरिंग कैसे होती है, इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि नसबंदी के लिए काम करने वाले ठेकेदार जो आंकड़े निगम प्रशासन को देते हैं उन्हें सही मान लिया जाता है। खास बात ये है कि इन आंकड़ों का सत्यापन भी कागजों में ही हो जाता है।

इन क्षेत्रों में सबसे ज्यादा आतंक : निगम कार्यालय में सबसे ज्यादा माडल टाउन, न्यू कॉलोनी, कबीरपुर, पंचमनगर, जीवन नगर, तारा नगर, ब्रह्मानगर, नंदवानी नगर, चार मरला, वेस्ट रामनगर, जटवाड़ा, सैनीपुरा, बड़ा बाजार, राज मोहल्ला, सेक्टर 14, सेक्टर 15, सेक्टर 23 से आवारा कुत्तों की शिकायत पहुंची है। माडल टाउन के लोगों ने क्षेत्र में पहुंचे विधायक सुरेंद्र पंवार के सामने भी ये मुद्दा उठाया था। नगर निगम अधिकारियों को भी शिकायत दी थी।

खबरें और भी हैं...