पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

किसान आंदोलन:किसानों ने कृषि कानूनों की प्रतियां जलाईं, 5 को करेंगे एफसीआई के दफ्तरों का घेराव

राई (सोनीपत)एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कुंडली बॉर्डर पर कृषि कानूनों की प्रतियां जलाते किसान। - Dainik Bhaskar
कुंडली बॉर्डर पर कृषि कानूनों की प्रतियां जलाते किसान।
  • संपत्ति के नुकसान की भरपाई वाले हरियाणा सरकार के कानून का किया विरोध

सयुंक्त किसान मोर्चा ने रविवार को होलिका दहन पर तीन कृषि कानूनों की प्रतियां जलाईं। दिल्ली के बॉर्डराें पर लगे किसानों के धरनास्थलों पर किसानों ने कृषि कानूनों को किसान व जनता विरोधी करार देते हुए होली जलाई। किसानों ने कहा कि इन कानूनों को रद्द करना ही पड़ेगा और एमएसपी पर कानून बनाना ही पड़ेगा। उन्होंने 5 अप्रैल को एफसीआई ऑफिस के सामने विरोध का ऐलान किया।

संयुक्त किसान मोर्चा के सदस्य डॉ. दर्शनपाल ने कहा कि गत 18 मार्च को हरियाणा विधानसभा में विपक्ष के भारी विरोध के बावजूद एक ऐसा विधेयक पारित किया गया है, जिसका उद्देश्य आंदोलन करने वालों को दबाना है। हरियाणा लोक व्यवस्था में विघ्न के दौरान संपत्ति क्षति वसूली विधायक 2021 के शीर्षक से पारित इस बिल में ऐसे खतरनाक प्रावधान हैं, जो निश्चित रूप से लोकतंत्र के लिए घातक सिद्ध होंगे। सयुंक्त किसान मोर्चा इस कानून की कड़ी निंदा व विरोध करता है।

यह कानून इस किसान आंदोलन को खत्म करने और किसानों की जायज मांगों से भागने के लिए लाया गया है। इसके तहत आंदोलन के दौरान कहीं पर भी निजी या सार्वजनिक संपत्ति के नुकसान की भरपाई आंदोलन करने वालों से की जाएगी। आंदोलन की योजना बनाने, प्रोत्साहित करने वाले या किसी भी रूप में सहयोग करने वालों से नुकसान की वसूली की जा सकेगी। कानून में किसी भी अदालत को अपील सुनने का अधिकार नहीं होगा। कथित नुकसान की वसूली आंदोलनकारियों की संपत्ति जब्त करके की जा सकेगी।

यह कानून यूपी की सरकार द्वारा भी बनाया जा चुका है। इसका बड़े पैमाने में दुरुपयोग हुआ है। यह घोर तानाशाही का कदम है और वर्तमान शांतिपूर्ण किसान आंदोलन के खिलाफ इसका दुरुपयोग किया जाना निश्चित है। उन्होंने कहा कि वे इस कानून का विरोध करते हैं।

सुबह 11 से शाम 5 बजे तक किया जाएगा विरोध

एमएसपी और पीडीएस व्यवस्था खत्म करने के कई प्रयास किए जा रहे हैं। कई सालों से एफसीआई के बजट में कटौती की जा रही है। हाल में एफसीआई ने फसलों की खरीद प्रणाली के नियम भी बदले। सयुंक्त मोर्चा की आम सभा मे यह तय किया कि आने वाली 5 अप्रैल को एफसीआई बचाओ दिवस मनाया जाएगा। इसके तहत देशभर में एफसीआई के दफ्तरों का सुबह 11 बजे से शाम 5 बजे तक घेराव किया जाएगा। हम किसानों व आम जनता से अपील करते हैं कि यह अन्न पैदा करने वालों और अन्न खाने वालों दोनों के भविष्य की बात है, इसलिए इस दिन इस विरोध प्रदर्शन में हिस्सा लें।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- दिन सामान्य ही व्यतीत होगा। कोई भी काम करने से पहले उसके बारे में गहराई से जानकारी अवश्य लें। मुश्किल समय में किसी प्रभावशाली व्यक्ति की सलाह तथा सहयोग भी मिलेगा। समाज सेवी संस्थाओं के प्रति ...

    और पढ़ें