कपालमोचन मेला:श्रद्धालुओं की सुरक्षा में तैनात रहेंगे 2800 पुलिसकर्मी, 15 नाके लगाए

यमुनानगर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कपालमोचन मेले में आने वाले श्रद्धालु बीते वर्षों से बेहतर अनुभव लेकर लौटेंगे। प्रशासन ने मेला की सभी तैयारियां पूरी कर ली हैं। इस बार मेले में दस लाख से अधिक श्रद्धालुओं के पहुंचने की संभावना है। श्रद्धालुओं की सुरक्षा के व्यापक प्रबंध किए गए हैं। पूरा मेला क्षेत्र की सीसीटीवी व ड्रोन से कवरेज की जाएगी। डीसी यमुनानगर राहुल हुडा ने कपालमोचन मेला के प्रशासनिक ब्लॉक में आयोजित प्रेस काॅन्फ्रेंस में बताया कि प्रशासन ने हर साल से बेहतर प्रबंध किए हैं।

श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए मेला क्षेत्र को चार सेक्टर में बांटा गया है। हर सेक्टर में एक मजिस्ट्रेट समेत प्रशासनिक अमला लगाया गया है। उन्होंने कहा कि 2020 में कोरोना के कारण मेला नहीं लगा। 2021 में आखिरी क्षणों में मेले का आयोजन होने से कम ही श्रद्धालु आए।

इसलिए इस बार दस लाख से अधिक श्रद्धालु पहुंचने की उम्मीद है। श्रद्धालुओं के रहने, सुरक्षा व आवाजाही का पूरा प्रबंध किया गया है। मेला क्षेत्र की सफाई के लिए आउट सोर्सिंग से कर्मचारी लगाए गए हैं।

बसों की कमी नहीं होने दी जाएगी| डीसी ने बताया कि उन्हें मेले के आयोजन व सीईटी की पहले से जानकारी थी। इसलिए मेला पहुंचने वाले श्रद्धालुओं को बसों की किसी भी तरह की कमी नहीं होने दी जाएगी। उन्होंने बताया कि सभी डिपो से बसें मेले में नियमित आएंगी। यमुनानगर डिपो की सभी बसें मेले में लगाई जाएंगी। इसके साथ परीक्षार्थियों की सुविधा का भी ख्याल रखा जाएगा। डीसी ने बताया कि हर साल की तरह विभिन्न स्कूलों के प्रतिभागी रंगारंग सांस्कृतिक प्रस्तुति देंगे।

इसके अलावा हरियाणा सांस्कृतिक विभाग की ओर से पांच व छह नवंबर को विशेष नाटक मंडली बुलाई है। जो श्रद्धालुओं का मनोरंजन करेगी। प्रदर्शनी क्षेत्र में दिन-रात मनोरंजन की व्यवस्था की गई है। श्रद्धालुओं का कराया जाएगा बीमा|मेला प्रशासक एवं एसडीएम बिलासपुर जसपाल सिंह गिल ने बताया कि मेला कपालमोचन में आने वाले हर श्रद्धालु का बीमा कराया जाएगा।

उन्होंने बताया कि हर दिन तीन लाख श्रद्धालुओं का बीमा कराया गया है। पिछले साल हर दिन दो लाख श्रद्धालुओं का बीमा कराया गया था। इस बार मेले में आने वाले श्रद्धालुओं की अधिकता को देखते हुए यह निर्णय लिया गया है। एसपी मोहित हांडा ने बताया कि श्रद्धालुओं की सुरक्षा के लिए मेला क्षेत्र के चारों ओर 15 पुलिस नाके लगाए गए हैं।

जहां हर आने-जाने वालों पर पुलिस की पैनी नजर होगी। पूरे मेला क्षेत्र में 2800 पुलिसकर्मी लगाए जाएंगे। जिनमें यूनिफार्म के अलावा सादे कपड़ों में, इंटेलीजेंस, घोड़ा पुलिस व महिला पुलिस कर्मी लगाए जाएंगे। भीड़भाड़ व संवेदनशील इलाकों में घोड़ा पुलिस असामाजिक तत्वों पर नजर रखेगी। उन्होंने बताया कि सभी सरोवरों पर एफडीआरएस की टुकड़ी के गोताखोर व अन्य कर्मी तैनात किए जाएंगे। जिससे किसी भी तरह की स्थिति से निपटने में दिक्कत न हो।

खेड़ा मंदिर में रामायण पाठ शुरू
कपालमोचन तीर्थराज मेला में शाही स्नान से पूर्व विभिन्न क्षेत्रों ने आने वाले संत-महंतों ने वीरवार को बिलासपुर खेड़ा मंदिर परिसर में श्रीरामायण का एक दिवसीय अखंड पाठ शुरू किया। खेड़ा के पुजारी राजेश शर्मा व अन्य पांच पंडित रामायण का अखंड पाठ कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि चार नवंबर को दस बजे पाठ का भोग डाला जाएगा। इसके बाद मंदिर परिसर से साधुओं की शाही यात्रा आरंभ होगी। जो कपालमोचन के पवित्र सरोवरों में प्रथम स्नान करेंगे।

खबरें और भी हैं...