हादसा:शुक्रवार देर रात मिला 16 वर्षीय जाहिद का शव, अवैध खनन कर खोदे गए गड्ढे में डूबे थे दोनों दोस्त

यमुनानगर5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कलानौर के पास यमुना नदी में डूबे गांव मंडौली निवासी 16 साल के जाहिद का शव शव शुक्रवार देर रात मिल गया। वह अपने दाेस्त 20 साल के अभिषेक के साथ डूब गया था। अभिषेक का शव शुक्रवार शाम मिल गया था। पुलिस ने दोनों के शवों का पोस्टमार्टम कराकर परिजनों को सौंप दिया। दोनों की मौत के बाद गांव में मातम का माहौल है। जहां दोनों युवक डूबे थे, वहां गहरा गड्ढा था। माना जा रहा है कि वहां काफी गहराई तक अवैध खनन किया गया था। जब गांव के छह युवक नदी में नहाने के लिए अंदर गए तो अभिषेक गड्ढे में डूब गया। उसे बचाने के लिए जाहिद आगे गया। वह भी डूब गया। दोनों ने एक-दूसरे को बचाने का प्रयास किया, लेकिन दोनों डूब गए।

जाहिद के पिता ने बताया कि बेटा पहली बार नहाने के लिए नदी में आया था। वह किसी काम से गांव से बाहर था। उसे पता चला कि जाहिद डूब गया तो वह गांव में आया। अभिषेक के परिवार के लोगों का भी कहना है कि वह भी पहली बार वहां नहाने गया था। दोनों को तैरना नहीं आता था। युवक शुक्रवार शाम को नदी में डूबे थे। ग्रामीणाें ने अपने स्तर पर नदी में तलाश की, लेकिन पता नहीं चला। इसके बाद अपने स्तर पर गोताखोर बुलाए। राजीव गोताखोर टीम के साथ मौके पर पहुंचे। उन्होंने सर्च ऑपरेशन शुरू किया। रात को बैटरी की रोशनी में सर्च ऑपरेशन शुरू किया। पहले अभिषेक का शव मिला था और देर रात जाहिद का। जहां शव मिले हैं, वहां 25 से 30 फीट तक पानी था।

हर साल डूबते हैं 30 से 35 लोग
गर्मी का मौसम शुरू होते ही नहर नदी में डूबने का सिलसिला शुरू हो गया है। अब तक पांच की मौत डूबने से हो चुकी है। ये पांचों नहर में नहाने गए थे। हर साल नहर और नदी में नहाते समय इस तरह से हादसे होते हैं, लेकिन कोई सबक नहीं लेता। लोग न तो खुद ही नदी और नहरों में नहाने से रुकते हैं और प्रशासन के आदेश भी नहीं मानते। प्रशासन की ओर से नहर के किनारे पर जगह-जगह बोर्ड लगाए गए हैं कि नहाना मना है, लेकिन फिर भी लोग नहाते हैं। वहीं प्रशासन भी उन पर कोई एक्शन नहीं लेता। हर साल यमुनानगर में 30 से 35 लोगों की मौत नहर में डूबने से होती है।

खबरें और भी हैं...