125 घरों को मिली सिलेंडर बुकिंग से मुक्ति:, कंपनी का दावा- मार्च तक 4 हजार घरों में पहुंचेगी पीएनजी

यमुनानगर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सरस्वती शुगर मिल कॉलोनी में रसोई घरों में पहुंची लाइन व पीएनजी कनेक्शन के लिए घर के बाहर लगे मीटर। - Dainik Bhaskar
सरस्वती शुगर मिल कॉलोनी में रसोई घरों में पहुंची लाइन व पीएनजी कनेक्शन के लिए घर के बाहर लगे मीटर।

तीन साल से भी अधिक समय के इंतजार के बाद अब शहर के लोगों को भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन द्वारा घरों में पीएनजी (पाइप्ड नेचुरल गैस) कनेक्शन देने शुरू कर दिए गए हैं। शुरुआत सरस्वती शुगर मिल की कॉलोनी के घरों से हुई है। यहां से 125 घरों में कनेक्शन चालू हो गए हैं। कॉलोनी के करीब चार सौ घरों में कनेक्शन किए जाने हैं। जिन 125 घरों में पीएनजी चालू हो गई है, उन्हें अब गैस सिलेंडर की बुकिंग नहीं करानी होगी। न ही गैस सिलेंडर की डिलीवरी का इंतजार करना होगा। कंपनी के टेरीटरी मैनेजर सतीश कुमार ने बताया कि शहर में करीब चार किलोमीटर लंबी लाइन का नेटवर्क तैयार है।

इसकी टेस्टिंग पूरी तरह से हो चुकी है। दावा किया कि कंपनी मार्च तक चार हजार घरों में पीएनजी की सप्लाई चालू कर देगी। पीएनजी सप्लाई में जो मुख्य बाधाएं थीं, उनमें से अधिकतर को दूर कर लिया गया है। सिर्फ नगर निगम से एक एनओसी बाकी रहती है।

थोड़ा और इंतजार } पीएनजी सप्लाई की अधिकतर बाधाएं दूर, सिर्फ नगर निगम से एक एनओसी बाकी

नए सीएनजी स्टेशन का सेटअप तैयार सतीश ने बताया कि अभी चार सीएनजी स्टेशन शहर व आसपास चल रहे हैं, लेकिन इनमें सप्लाई गाड़ी से है। पाइप लाइन के जरिए दो सीएनजी स्टेशन (पंप) दो माह में शुरू करने का टारगेट है। इसमें से एक रादौर रोड पर तो दूसरा जगाधरी बस अड्डे के पास है। इन पर सेटअप तैयार हो गया है। पाइप लाइन से सीएनजी का प्रेशर अच्छा रहता है और यह गाड़ी वाले स्टेशन से माइलेज ज्यादा देती है।

{डीआरआस के लिए नहीं मिल पाई जमीन मैनेजर सतीश कुमार ने बताया कि पीएनजी का प्रेशर मेंटेन करने के लिए शहर में करीब चार स्थानों पर जनरेटर के आकार के डिस्ट्रिक्ट रेगुलेटर स्टेशन (डीआरएस) लगाने हैं। कंपनी ने इसके लिए हुडा, नगर निगम व बीएसएनएल से जगह मांगी है। लंबी फाइल प्रक्रिया के बाद बाद भी नगर निगम से बात सिरे नहीं चढ़ पा रही है। इसलिए भी शहर के लोगों को पीएनजी के कनेक्शन नहीं मिल पा रहे हैं। क्योंकि मुख्य लाइन में प्रेशर अधिक होता है। जबकि जो कनेक्शन घरों को दिए जाने हैं, उनमें बहुत कम प्रेशर से सप्लाई दी जाती है।

अधिक प्रेशर की सप्लाई को घरों में लगा सिस्टम नहीं झेल सकता है, इससे नुकसान हो सकता है। इसके लिए डीआरएस बहुत जरूरी है। सरस्वती कॉलोनी में सिस्टम के लिए जगह मिलने पर वहां कनेक्शन चालू कर दिए गए हैं। जो शेष बचे हैं, वे भी जल्दी चालू कर दिए जाएंगे।

{पूरा एरिया कवर होने में लग सकते हैं 6 साल बीपीसीएल शुरुआत में पीएनजी के दस हजार से ज्यादा कनेक्शन उपलब्ध करवागी। छह साल में पूरे शहर को कवर किया जाएगा। अभी तक हुडा सेक्टर-17, 18, मॉडल टाउन, प्रेम नगर, विकास नगर व सरोजनी कॉलोनी में लाइन डालने व टेस्टिंग का काम पूरा हो चुका है। दूसरे फेस में सेक्टर-17 व मॉडल टाउन क्षेत्र में पीएनजी कनेक्शन मिलने की संभावना है।

ऐसे मिलेगा कनेक्शन {फोटो आईडी के साथ रजिस्ट्रेशन फॉर्म भर कर कंपनी के इंडस्ट्रियल एरिया में बने आॅफिस या शहर में लगने वाले शिविरों में जमा कराना होगा। {रजिस्ट्रेशन फॉर्म के साथ एप्लीकेशन फीस, सिक्योरिटी डिपाॅजिट और कनेक्शन फीस भी देनी होगी। {15 मीटर से अधिक जीआई या कॉपर पाइप बिछानी पड़ेगी तो उसका चार्ज अलग से देना होगा। {रजिस्ट्रेशन के बाद कर्मचारी सर्वे करेंगे कि उपभोक्ता के घर तक कनेक्शन संभव है या नहीं।

खबरें और भी हैं...