यमुनानगर में मांगों को लेकर किसानों का प्रदर्शन:खराब फसलों और लंपी बीमारी से मरे पशुओं पर मांगा मुआवजा; डीसी को ज्ञापन

यमुनानगर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
यमुनानगर में मांगों को लेकर धरना देते किसान। - Dainik Bhaskar
यमुनानगर में मांगों को लेकर धरना देते किसान।

हरियाणा के यमुनानगर में बुधवार को किसानों ने अखिल भारतीय किसान सभा के आह्वान पर धान (जीरी), गन्ना की खराब फसलों की गिरदावरी जल्द कराने की मांग की। साथ ही लंपी बीमारी से मरने वाले पशुओं के मालिकों को मुआवजा देने को लेकर अनाज मंडी जगाधरी में प्रदर्शन किया गया। बाद में किसान नेताओं ने डीसी को ज्ञापन सौंपा।

किसानों ने ज्ञापन में डीसी के सामने कई मांगे रखी हैं। इनमें बारिश से खराब फसलों की गिरदावरी करवाकर नुकसान आंकलन करने, प्रभावित किसानों को प्रति एकड़ कम से कम 60 हजार रुपए के हिसाब से मुआवजा देने, किसानों को डीजल सस्ते रेट पर देने, किसानों को कर्जा मुक्त करने, लंपी बीमारी से मृत पशुओं का सर्वे करवाकर पशु पालकों को मुआवजे का भुगतान जल्दी से जल्दी किए जाने की मांग की गई।

डीसी को ज्ञापन सौंपते किसान नेता।
डीसी को ज्ञापन सौंपते किसान नेता।

लघु सचिवालय में अखिल भारतीय किसान सभा के प्रदेशाध्यक्ष जरनैल सिंह सांगवान ने कहा कि मंडी आढ़तियों की मांगों के बारे मे भी सरकार बातचीत से जल्दी से जल्दी समाधान किया जाए। ताकि मंडी में अनाज की खरीद शुरू हो सके। मंडियों में 25 सितंबर से धान की खरीद सुनिश्चित की जाए।

अखिल भारतीय किसान सभा व किसान सभा हरियाणा के संयुक्त प्रतिनिधिमंडल में शामिल जरनैल सिंह सांगवान, धर्मपाल सिंह चौहान, गुरभजनसिंह, महीपाल चमरोडी, मानसिंह पंजेटा और संजू चमरौडी ने डीसी को बतायाक किसान के जिन खेतों में फसल बर्बाद हो गई है, वहां पर ट्रैक्टर चलाकर अगली तैयारी में लग गए हैं। इसलिए सर्वे जल्दी करवाया जाए।