15 जून से पहले धान की रोपाई पर प्रतिबंध:रोक के बाद भी क्षेत्र में हो रही धान की रोपाई

जठलानाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

किसान धान की जगह अन्य वैकल्पिक फसलें लगाएं, इसके लिए कृषि अधिकारी गांव-गांव जाकर किसानों को जागरूक कर रहे हैं। किसानों को धान की रोपाई की जगह धान की सीधी बिजाई के लिए भी प्रेरित कर रहे हैं, लेकिन ये कार्यक्रम भी किसानों को जागरूक नहीं कर पा रहे हैं। 15 जून से पहले धान की रोपाई पर प्रतिबंध है, लेकिन क्षेत्र में धान की रोपाई का कार्य जोरों पर है। क्षेत्र के नाचरौन, रतनगढ़, पालेवाला, मोहड़ी व मंधार समेत कई गांवों में काफी भूमि पर किसान धान की रोपाई कर चुके हैं।

वहीं, लगातार धान रोपाई की जा रही है। ब्लॉक रादौर में भूजल स्तर तेजी से घट रहा है। इसलिए ब्लॉक को डार्क जोन भी घोषित किया हुआ है। बता दें कि धान की सीधी बिजाई का कार्य 25 मई से शुरू होगा। धान की सीधी बिजाई में पानी की खपत बहुत कम हाेती है। वहीं, धान की सीधी बिजाई करने वाले किसान को सरकार की ओर से 4 हजार रुपए प्रति एकड़ अनुदान राशि भी दी जाएगी। वहीं, खंड कृषि अधिकारी डॉ. राकेश अग्रवाल का कहना है कि 15 जून से पहले धान की रोपाई पर पाबंदी है। अगर किसान निर्धारित तिथि से पहले धान की रोपाई कर रहे हैं, तो यह गलत है। जो किसान इस समय धान की रोपाई कर रहे हैं, उन्हें नोटिस देकर कार्रवाई की जाएगी। समय से पहले धान की रोपाई बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

खबरें और भी हैं...