यमुनानगर में किसानों का ट्रैक्टर मार्च:शहर में प्रदर्शन कर सीएम का पुतला जलाया; पुलिस ने सचिवालय गेट पर रोका

यमुनानगर7 दिन पहले

हरियाणा के यमुनानगर में किसानों ने बुधवार को गन्ना रेट बढ़ाने की मांग को लेकर ट्रैक्टर मार्च निकाला। किसानों ने सरकार के खिलाफ जोरदार नारेबाजी की और मुख्यमंत्री का पुतला जलाया। किसानों के प्रदर्शन को देखते हुए बड़ी संख्या में पुलिस तैनात की गई थी। लघु सचिवालय का गेट बंद कर किसानों को बाहर ही रोक दिया गया।

यमुनानगर में 6 दिनों से गन्ने का समर्थन मूल्य 450 रुपए प्रति क्विंटल किए जाने की मांग को लेकर किसान बीजेपी सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। इसी कड़ी के चलते आज यमुना नगर के सैकड़ों किसानों ने शहर मे मुख्यमंत्री मनोहर लाल के पुतले की शव यात्रा निकाली। पुतले को ट्रैक्टरों पर निकालकर बीजेपी सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और ट्रैक्टर मार्च निकाला।

किसानों को रोकने के लिए लघु सचिवालय गेट को पुलिस ने बंद रखा।
किसानों को रोकने के लिए लघु सचिवालय गेट को पुलिस ने बंद रखा।

किसान प्रदर्शन करते हुए लघु सचिवालय पहुंचे। वहां पुलिस ने सचिवालय का गेट बंद कर किसानों को अंदर जाने से रोक दिया। इसके बाद किसानों ने रोड पर ही सीएम का पुतला जलाया। भारतीय किसान यूनियन (चढ़ूनी) के जिला प्रधान संजू गुदियाना ने कहा कि आज सरकार ने गन्ने का मूल्य 10 रुपए प्रति क्विंटल बढ़ाया है। यह किसानों के साथ भद्दा मजाक सरकार ने किया है। किसान मिलकर सरकार के इस फैसले का विरोध करते हैं। जब तक सरकार गन्ने का मूल्य 450 रुपए प्रति क्विंटल नहीं कर देती, उनका धरना जारी रहेगा।

सीएम के पुतले को ट्रैक्टर पर बांध कर शहर में यात्रा निकाली गई।
सीएम के पुतले को ट्रैक्टर पर बांध कर शहर में यात्रा निकाली गई।

किसानों पर सरकार का ध्यान नहीं

उन्होंने बताया कि 20 जनवरी से हरियाणा के सभी शुगर मिलों को किसानों द्वारा बंद किया हुआ है। पूरे हरियाणा में किसान अपनी मांगों को लेकर शुगर मिल के बाहर धरना दे रहे हैं। सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं, लेकिन सरकार उनकी मांग पर कोई भी उचित ध्यान नहीं दे रही है।

खबरें और भी हैं...