• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Yamunanagar
  • Tender For Development Works In The Colonies Which Became Valid In 2018 After 4 Years In 2022, The Work Did Not Start Even After A Month

2018 में वैध हुई 69 कॉलोनियों को विकास का इंतजार:2018 में वैध हुई कॉलोनियों में 4 वर्ष बाद 2022 में लगा विकास कार्यों का टेंडर, कार्य एक माह बाद भी शुरू नहीं

यमुनानगरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
खड्‌डा कॉलोनी में बदहाल सड़क। - Dainik Bhaskar
खड्‌डा कॉलोनी में बदहाल सड़क।

नगर निगम की 69 कॉलोनियों को सरकार ने वैध किया। 2018 में वैध करने की घोषणा के बाद अब चार साल बाद 2022 में इनमें विकास कार्यों को लेकर केवल टेंडर ही लगाए गए। अप्रैल में हुए टेंडर के बाद भी कॉलोनियों में विकास कार्य शुरू नहीं हो पाए हैं। यहां के लोगों को उम्मीद बनी थी कि वैध होने के बाद सड़कों से लेकर सीवरेज तक की सुविधा मिल जाएगी, लेकिन अब तक ऐसा नहीं हुआ। अभी भी लोग विकास कार्यों के इंतजार में हैं।

इन कॉलोनियों में मूलभूत सुविधाओं का अभाव है। यहां की कच्ची गलियां बरसात होने पर लोगों के लिए परेशानी का सबब बन जाती हैं। वर्ष-2018 में सीएम मनोहर लाल ने काॅलोनियों को अप्रूव करने की घोषणा की थी। यहां आज तक भी सीवरेज से लेकर निकासी तक की सुविधा नहीं दी गई। खाली प्लाॅटों में पानी जमा होने की शिकायत रहती है। इससे कॉलोनियों के लोग परेशान हैं।

अधिकारियों ने प्लानिंग में चार साल लगा दिए :नगर निगम अधिकारियों ने वैध हुई कॉलोनियाें में होने वाले विकास कार्यों की प्लानिंग तैयार करने में ही चार साल लगा दिए। यहां निकासी की सुविधा प्रथम चरण में दी जाएगी। यहां की नालियों को अंडरग्राउंड किया जाना है। सभी कॉलोनियों का टेंडर निगम ने एक साथ लगाया। इसके विरोध में पार्षद रहे। जिसके बाद टेंडर को रद्द कर कॉलोनी वाइज टेंडर अब अप्रैल माह में लगाया गया। निगम की ओर से एजेंसी को वर्क अलॉट किया जा चुका है। इन कार्यों की शुरुआत वार्ड नंबर-21 से की गई।

228.36 लाख रुपए की लागत से गलियों व अंडरग्राउंड नालियों के निर्माण किया जाना है। वार्ड-12 की नई वैध कॉलोनियों के विकास के लिए 222.55 लाख व वार्ड नंबर 22 की विभिन्न काॅलोनियों में होने वाले कार्य की शुरुआत जल्द होने की उम्मीद निगम अधिकारी जता रहे हैं। यहां 239.22 करोड़ की लागत से कई कार्य होने हैं। लोगों का आरोप है कि अभी कार्य शुरू भी नहीं हुए। वहीं, नगर निगम मेयर मदन चौहान का कहना है कि विकास कार्यों को प्राथमिकता में रखा गया है। टेंडर लग चुके हैं। जल्द ही इन कॉलोनियों में कार्य शुरू हो जाएंगे।

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने इन कॉलोनियों को किया था अप्रूव्ड
सीएम ने कांबोज काॅलोनी, ऊषा कॉलोनी, बावा काॅलोनी, भागीरथ कॉलोनी, इंद्रापुरम, उप्पल माल के पीछे स्थित कॉलोनी, प्यारे जी मंदिर के सामने कॉलोनी, गोबिंद फार्म काॅलोनी, ग्रीन विहार पार्ट-2, महा दुर्गेश्वरी कालोनी, सैनी फार्म वार्ड, शिवपुरी जगाधरी, ग्रीन विहार, गढ़ी मुंडो टपरियां, जैन अवैन्यू, न्यू जैन नगर, बैंक कॉलोनी, राजीव गार्डन, त्यागी गार्डन, विशाल नगर, मोती बाग काॅलोनी, हनुमान काॅलोनी, मायापुरी, राजधानी कॉलोनी, शांति काॅलोनी, सुंदर नगर काॅलोनी, सुंदर विहार फेस-1, गधौली माजरी, कैलाश नगर, रूप नगर, शारदा काॅलोनी, जम्मू काॅलोनी, जोड़िया लाल डोरा के बाहर, शिव नगर, जवाहर नगर, नानक नगर, मंडेबर लाल डोरा के बाहर,

आर्य नगर, अशोक विहार, बूटर विहार, मायापुरी, तेली माजरा, नीलकंठ कॉलोनी, काली मंदिर एक्सटेंशन कॉलोनी, गांधी नगर, विशाल नगर, गीता काॅलोनी, प्रोफेसर काॅलोनी, रामेश्वर विहार, संजय विहार, गोल्डन पूरी, गधौली काॅलोनी, लाल विहार काॅलोनी, कामी माजरा लाल डोरे से बाहर वार्ड, पांसरा लाल डोरे से बाहर, शंभू काॅलोनी, ताजकपुर लाल डोरे से बाहर, तीर्थ नगर, दुर्गा विहार, पृथ्वी नगर, अंबेडकर नगर, कमल नगर, नंदा काॅलोनी, खड्डा काॅलोनी, शिवपुरी ब्लाक-2, अमरपुरी, प्रह्लादपुरी, शिवपुरी ब्लाक-ए, शिवदयालपुरी, बूड़िया, भुरिया, भागवती काॅलोनी, रामनगर कांसापुर, राम नगर रेलवे वर्कशाॅप व सुंदर विहार काॅलोनी को अप्रूव किया था।

प्रह्लादपुरी में पानी की भी समस्या कॉलाेनी निवासी अनिल पुरी, हरदेव सिंह, जय सिंह, दीपक कुमार व राजेंद्र का कहना है कि निगम की ओर से कॉलोनी में 10 प्रतिशत काम कराया है। यहां निकासी की मुख्य समस्या है। यहां की कई गलियां कच्ची हैं। पेयजल के लगाया ट्यूबवेल एक साल बाद भी नहीं चलाया गया। दूसरी कॉलोनी से कनेक्ट कर पानी सप्लाई हो रही है। जिससे पानी का प्रेशर पूरा नहीं आ रहा है।

खबरें और भी हैं...