• Hindi News
  • Local
  • Himachal
  • Bilaspur
  • Daulatram Expressed His Claim On BJP Ticket, Contested From Nayanadevi Assembly Constituency In 1982; Public Relations Announcement From July 1

BJP के टिकट पर दौलतराम ने जताई दावेदारी:नयनादेवी विधानसभा क्षेत्र से 1982 में लड़ा था चुनाव; 1 जुलाई से जनसंपर्क का ऐलान

बिलासपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बिलासपुर स्थित सर्किट हाउस में प्रेसवार्ता करते दौलत राम शर्मा। - Dainik Bhaskar
बिलासपुर स्थित सर्किट हाउस में प्रेसवार्ता करते दौलत राम शर्मा।

हिमाचल प्रदेश के जिला बिलासपुर स्थित नयनादेवी विधानसभा क्षेत्र से BJP टिकट की दावेदारी जता रहे एडवोकेट दौलत राम शर्मा जनसंपर्क अभियान की तैयारी में जुट गए हैं। इसकी शुरुआत 1 जुलाई को नम्होल से होगी। अभियान के दौरान क्षेत्र के लोगों के साथ ही पंचायती राज संस्थाओं के मौजूदा व पूर्व प्रतिनिधियों तथा सेवानिवृत्त कर्मचारियों से संपर्क किया जाएगा।

रविवार को सर्किट हाउस में प्रेस कॉन्फ्रेंस में दौलत राम ने कहा कि मोदी सरकार शानदार काम कर रही है। केंद्र सरकार द्वारा शुरू की गई अग्निपथ योजना बेहतरीन है। युवाओं को इतने बड़े पैमाने पर रोजगार का अवसर और कहीं मिल पाना मुश्किल है। हैरान करने वाला पहलू यह है कि कांग्रेस की टाॅप लीडरशिप को भी यह स्कीम समझ नहीं आ रही है। उन्होंने कांग्रेस नेताओं को इस स्कीम को लेकर सार्वजनिक मंच पर बहस की चुनौती दी।

इस मौके पर परिवहन मजदूर संघ के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष शंकर सिंह ठाकुर ने कहा कि दौलत राम ने 1982 में भी नयनादेवी (उस समय कोटकहलूर) विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ा था। उस दौरान BJP के पास गिने-चुने वर्कर होते थे। इसके बावजूद शर्मा महज 350 वोटों से हारे थे। BJP के पुराने कार्यकर्ता अनदेखी से खफा हैं। उनके कहने पर शर्मा दोबारा चुनाव लड़ने के लिए तैयार हुए हैं। जनसंपर्क अभियान की शुरुआत के बाद यह मांग बीजेपी के नेतृत्व के समक्ष रखी जाएगी।

नयनादेवी विधानसभा क्षेत्र में BJP का नेतृत्व पार्टी के प्रदेश मुख्य प्रवक्ता एवं राज्य आपदा प्रबंधन बोर्ड के उपाध्यक्ष रणधीर शर्मा कर रहे हैं। पार्टी के भीतर विरोधी गुट की ओर से उन्हें पहले भी चुनौती दी जाती रही है। चूंकि, चुनाव में अधिक समय नहीं बचा है, लिहाजा BJP टिकट की दावेदारी का सिलसिला शुरू हो गया है। हालांकि, इस गुट में कुछ लोग ऐसे भी हैं, जो CM और उनके कई मंत्रियों को कोसने में कोई कसर नहीं छोड़ते। टिकट की बाजी किसके हाथ लगेगी, इसका पता बाद में ही चलेगा।