जबरन गले में पटका डालने से नहीं बनेगी बात:राजेंद्र राणा बोले- जनता छोड़ चुकी है BJP का साथ, सुजानपुर का विकास रोकना पड़ेगा भारी

हमीरपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जनसभा को संबोधित करते हुए राजेंद्र राणा। - Dainik Bhaskar
जनसभा को संबोधित करते हुए राजेंद्र राणा।

हिमाचल कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष और सुजानपुर विधायक राजेंद्र राणा ने कहा कि लुटे-पिटे पद-पदक के प्रभाव में BJP सुजानपुर में जितने मर्जी जबरन पटके लोगों के गले में डाल ले। अब लोग BJP के किसी झांसे में आने वाले नहीं हैं।

राणा ने मंगलवार को सुजानपुर की ऊटपुर पंचायत में आयोजित एक बड़ी जनसभा में भाजपा पर तीखे हमले किए। जनसभा में उमड़ी भीड़ से गदगद होकर राजेंद्र राणा बोले कि अब किसी भी पटके-मसके से BJP की बिगड़ी बात बनने वाली नहीं है। सुजानपुर के सीमांत क्षेत्र ऊटपुर में उमड़ा जन सैलाब बता रहा है कि 5 वर्ष तक सत्ता व पद-पदक का दुरुपयोग करके BJP ने सुजानपुर का जो विकास रोका है।

उसका हिसाब सुजानपुर की जनता लेकर रहेगी। राणा ने कहा कि हार और जीत लोकतंत्र के खूबसूरत पहलु हैं। जो कि जनता के भरोसे के आधार पर बनते-बिगड़ते हैं। राणा ने कहा कि ऊटपुर की जनसभा में पहुंचे पटकाधारियों ने उन्हें बताया कि BJP व समीरपुर के कुछ एजेंट टाइप ठेकेदारों की टोली लोगों को यह कहकर बरगलाती है कि चलो आपका काम अभी करवाकर लाते हैं।

लेकिन जैसे ही लोग अपने काम की दरकार में वहां पहुंचते हैं। तो उनके गले में पटके लटकाकर उन्हें पटकाधारी घोषित करने का असफल प्रयास किया जाता है। राणा ने कहा कि आज ऊटपुर में पहुंचे लोगों ने भरी सभा में खुलासा किया है कि BJP के कुछ ठेकेदार लोगों की जुंडली उन्हें काम कराने का झांसा देकर समीरपुर ले गई। वहां चाय-पानी को पूछने की बजाय गले में पटका डाल दिया गया।

गले में पटका डालकर यह कह कर वापस भेज दिया गया कि काम का क्या है काम हो जाएगा। कुछ एजेंट लोग इस दुष्प्रचार में लगे हैं कि सुजानपुर की जनता इस बार अपनी भूल का पश्चाताप करना चाहती है। लोकतंत्र में जनता के फैसले से बड़ा कोई फैसला नहीं होता है। सुजानपुर की जनता ने 2017 में भी सोच समझ कर अपना फैसला व फरमान सुनाया था। 2022 में भी उसी सोच समझ के साथ जनता फैसला सुनाएगी।

राणा ने कहा कि उन्हें 2017 में भी जनता के फैसले का पूरा भरोसा था और अब 2022 में भी जनता के फैसले का पूरा यकीन है। उन्होंने कहा कि सुजानपुर का विकास रोकने की भूल पर पश्चाताप करने की बारी BJP व उसके नेताओं की है। जिस पर BJP को यकीनन फिर पश्चाताप व प्रायश्चित करना होगा।

खबरें और भी हैं...